Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | अगस्त 31, 2018

1860


डॉ.कविता भट्ट

1                                                        

सूनी खिडकीसूनी खिड़की

राह निहारे तेरी,

आँखों में भर

मिलन का काजल

मचलता आँचल।

 

 

2

WomanintheRain

चूल्हा सीला- सा

लेकिन मैं सुलगी

इस सावन

पिय तुम प्रहरी

विरहन ठहरी ।

3

बसन्त आया

गुजरा चुपचाप,

अब की होली

सैनिक के घर में

करती थी विलाप !

4

चयन करे

शूल-शय्या गर्व से

सैनिक -प्रिया

उसे भी है कहना

महान वीरांगना ।

5

सूनी है घाटी

रो रहे देवदार

नदी उदास

दहली कल रात

नृशंस था प्रहार ।

6

स्तब्ध खड़ा है,

हिमालय के मन

उद्वेग बड़ा है,

मानवता के शव

गिनता  रात-दिन।                                 

7

चिनार

बूढ़ा चिनार

खड़े हो सीमा पर

रहा निहार

शव मातृ-भक्तों के

नैनों में सूनापन।

8

प्रायः रही है

निर्जीव संपत्ति -सी

युद्ध-द्यूत में

‘नारी  केवल श्रद्धा’

गाया ही जाता रहा ।

9

नारीपुरुष बना –

तर्क-न्याय प्रणेता

छद्मवेशी भी

अहल्या शिलामात्र

हाय! ये धर्मशास्त्र

10

रथ विराजे

या शीश कटे राजे

युद्ध में हारे-

सुन्दर पटरानी

कुछ नर्तकियाँ भी ।

11

पंचकन्या में

मन्दोदरी, तारा भी

कंदुक- सी ही,

रावण विभीषण

खेले सुग्रीव-बाली

12

राम न आए

उतरकर द्वार

राजा ठहरे !

सीता के वे उद्गार

तुलसी भूल गए ।

13

सीता-वीरता

रचते ‘उत्तर’ में 

तुलसीदास

तो कभी नहीं होता

आज भी बनवास

14

ऐतिहासिक

हारना या जीतना,

घृणित मानी

यह सर्जन -शक्ति !

क्यों सदा तिरस्कृता ।

[**सभी चित्र  एवं  जी आई ऍफ़ फ़ाइल गूगल से साभार .

**चिनार का वृक्ष  627 साल पुराना है .]

Advertisements

Responses

  1. बहुत सुन्दर…मेरी हार्दिक बधाई…|

  2. सभी एक से बढ़कर एक…. बहुत ही सुन्दर सृजन

  3. बहुत सुन्दर रचनाएँ , हार्दिक बधाई !

  4. बहुत प्यारी रचनाएँ है कविता जी !

    आपको हृदय -तल से बधाई !

  5. अनुपम ताँका कविता जी

  6. वाह एक से बढ़ कर एक बेहतरीन ताँका….बधाई कविता जी।

  7. सैनिक -प्रिया , प्रकृति वा सम्पूर्ण नारी की स्थिति की पृष्ठभूमि पर रचे सभी ताँका बहुत सुंदर हैं |
    पुष्पा मेहरा

  8. हर ताँका दूसरे से बढ़कर । सुन्दर झाँका रचनाओं के लिये बहुत बधाई ।

  9. सुन्दर भाव अभिव्यक्ति रचनाकार को हार्दिक बधाई

  10. आप सबके प्रोत्साहन के लिए बहुत आभारी हूँ .अपना स्नेह बनाए रखिये .


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: