Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 24, 2022

2296-मृत्यु सत्य है


 डॉ. जेन्नी शबनम

1.

शाश्वत आत्मा

अपनों का बिछोह

जेन्नी-2रोती है आत्मा।

2.

लिप्सा अनन्त

क्षणभंगुर प्राण

लोभी मानव।

3.

काम न आता

काल जब आ जाता

अकूत धन।

4.

यम कठोर

आँसू से न पिघला,

माँ-बाबा मृत।

5.

समय पूर्ण,

मनौती है निष्फल,

यम का धर्म।

6.

यम न माना

करबद्ध निहोरा

जीवन छीना।

7.

हारा मानव,

छीन ले गया प्राण

यम दानव।

8.

आ धमकता

न चिट्ठी न सन्देश

यम अतिथि।

9.

मौत का खेला

कोरोना फिर खेला

तीसरा साल।

10.

मन बेकल

जाने कौन बिछड़े

कोरोना काल।

11.

यमदूत-सा,

कोरोना प्राण लेता

बहुत डराता।

12.

कोहराम है

कोरोना के सामने

सब लाचार।

13.

थमता नहीं

कोरोना का क़हर

श्मसान रोता।

14.

मालिक प्राण

जब चाहे छीन ले

देह गुलाम।

15.

मृत्यु का पल

अब समझ आया

जीवन माया।

16.

लेकर जाती

वैतरणी के पार,

मृत्यु है यार।

17.

पितृलोक है

शायद उस पार,

सुख-संसार।

18.

दुःख अपार

मिलता आजीवन,

निर्वाण तक।

19.

धम्म से आई

लेकर माँ का प्राण

मौत है भागी।

20.

बिना जिरह

मौत की अदालत

मौत की सज़ा।

21.

वक़्त के पास

अवसान के वक़्त

नहीं है वक़्त।

22.

मौत बेदर्द

ज़रा देर न रुकी,

अम्मा निष्प्राण।

23.

आस का दीया

सदा के लिए बुझा,

मौत की आँधी।

24.

निर्दय मौत

छीन ले गई प्राण

थे अनजान।

25.

मृत्यु का खेल,

ज़रा न संवेदना

है विडम्बना।

26.

ज़रा न दर्द

मौत बड़ी बेदर्द

हँसी निर्लज।

27.

ताक़त दिखा

मौत मुस्कराकर

प्राण हरती।

28.

माँ को ले गई

डरा धमकाकर

मौत निष्ठुर।

29.

पितृधाम में

मृत्यु है पहुँचाती,

मृत्यु-रथ से।

30.

मौत ने छीने

हमारे अपनों को,

हृदय जख्मी।

31.

खींच ले चलो,

यम का फरमान

जिसको चाहे।

32.

रुला-रुलाके

तमाशा है दिखाती

मौत नर्तकी।

33.

बच्चे चीखते

हृदय विदारक,

मौत हँसती।

34.

मृत्यु सत्य है

बेखबर नहीं हैं

दिल रोता है।

35.

आ धमकती

मग़रूर है मौत

साँसें छीनती।

36.

निगल गई

मौत फिर भी भूखी

हजारों प्राण।

37.

सब भकोसा

आदमी और पैसा

भूखा कोरोना।

38.

मृत्यु की जीत

जीवन-मृत्यु खेल,

शाश्वत सत्य।

39.

मौत का यान

जबरन उठाकर

फ़ुर्र से पार।

40.

सहमी फिज़ा

ठिठकी देख रही,

मौत का जश्न।

41.

स्थायी बसेरा,

किराए  का संसार

मृत्यु का घर।

42.

हजारों मौत

असामयिक मौत,

खून के आँसू।

43.

देख संसार

मौत बना व्यापार

बेबस काल।

44.

होते विलीन

अपने या पराए,

मौत से हारे।

45.

संदेश डरी

दिल है दहलाती

मौत की पाती।

46.

मौत– कटार

दिल जिसपे आए

करती वार।

47.

निष्प्राण प्राणी

मौत से कैसे लड़े

साँसों के बिन।

48.

क्रूर नियति

मज़ाक है उड़ाती

मौत की साथी।

49.

खून ही खून

मौत है नरभक्षी,

किसकी बारी।

50.

असह्य व्यथा

सबने है समझा,

मौत निर्बुद्धि।

-0-

Advertisement

Responses

  1. शाश्वत सत्य हर एक हाइकु।
    बहुत ही भावपूर्ण।

    सादर

  2. काल की निर्ममता और जीवन की क्षणभंगुरता को चित्रित करते भावपूर्ण हाइकु।

  3. महामारी कोरोना में असंख्य मनुष्य मौत के मुँह में चले गये । वही मौत का खेल फिर याद आ गया । शाश्वत सत्य मृत्यु पर हृदयस्पर्शी हाइकु सृजन ।हार्दिक बधाई जेन्नी शबनम जी ।

  4. मृत्यु जीवन का शाश्वत अटल सत्य है।इसी सत्य को उजागर करते भावपूर्ण, बेहतरीन हाइकु। जेन्नी जी आपको हार्दिक बधाई।

  5. विचार-मंथन वाले विषयों पर विरले ही लिखते हैंऔर उसकी प्रभावोत्पादकता बनाये रखने में कुछ ही सफल होते हैं ।डॉ जेन्नी शबनम ने यह चुनौतीपूर्ण कार्य बड़ी सहजता से किया है, हार्दिक शुभकामनाएँ ।

  6. बहुत ही सुंदर हाइकु, हार्दिक शुभकामनाएँ!

  7. जीवन और मृत्यु की आँख-मिचौली पर सुन्दर सृजन। बहुत-बहुत बधाई जेन्नी जी।

  8. हृदयस्पर्शी सृजन…हार्दिक बधाई जेन्नी जी।

  9. मेरे हाइकुओं की सराहना के लिए आप सभी का हृदय-तल से आभार!

  10. इन सार्थक हाइकु के माध्यम से एक बार फिर इस जीवन की नश्वरता का बोध हो गया , हार्दिक बधाई जेन्नी जी


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: