Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | अप्रैल 7, 2022

2248


पुरुषोत्तम श्रीवास्तव ‘पुरु’

1

नर्म धूप में

हा! यादों के स्वेटर 

दादी बुनती 

2

ना भागो पीछे

हैं, सुख की लहरें

मृगतष्णा -सी 

3

गरीब खाता

रोटी से, गम ज्यादा 

आँसू के साथ 

4

मन सागर

जो मथे विवेक से 

पाएगा रत्न

5

चाह की आँच 

जो खिचड़ी पकाई 

खानी पड़ेगी 

6

वक्त बदला

गिरे झूठ के पेड

सत्य की जय 

-0-

पुरुषोत्तम श्रीवास्तव ‘पुरु’, उपमहानिदेशक (से.नि.)
भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण ,111/191 मध्यम मार्ग,मानसरोवर, जयपुर 
8094777793
email : purupurujaipur@gmail.c

Responses

  1. न भागो पीछे, मन सागर …बहुत सुंदर!
    हार्दिक बधाई आ. पुरुषोत्तम जी!

    ~सादर
    अनिता ललित


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: