Posted by: हरदीप कौर संधु | अगस्त 19, 2019

2038-बेटियाँ


कृष्णा वर्मा

1

घर न पर

कैसे जिएँ बेटियाँ

बड़ा क़हर।

2

ज़मीं न ज़र

बंजारन ज़िन्दगी

आँसू से तर।

3

आँखों में ख़्वाब

लाख रस्म पहरे

कैसे हों पूरे।

4

बेटी का वास

हैं तय दहलीज़ें

औ परवाज़।

5

बेटी है दुआ

सुख का समंदर

बसे ,वीराना।

6

संदली रिश्ते

है बेटी ज़माना

हँसी– खज़ाना।

7

उम्मीदें, ख़्वाब

न चाहत -राहत

सिर्फ लानत।

8

सहमे खड़े

पलकों पर स्वप्न

आँसू निचोड़े।

9

भोर– सी बेटी

शाम -सी ढल जाती

भाग्य के नाम।

10

चाहे खुशियाँ

फिर कहे पराई

कैसी तू माई।

11

अपना ख़ून

फिर न बाँटे प्यार

क्यों शर्मसार।

12

बेटी न ख़ता

न तेरा अपराध

रब -सौग़ात।

13

माँ ले कसम

बिटिया के ख़्वाबों को

देगी तू पर।

-0-

Advertisements

Responses

  1. समस्त हाइकु मर्मस्पर्शी,हृदय को छू लेने वाले,सुंदर बिम्बो से सुंयुक्त हैं।बधाई कृष्णा जी को।

  2. कृष्णा जी बहुत सुन्दर हाइकु रचे हैं आपने,हार्दिक बधाई ।

  3. सभी हाइकु बेटियों की तरह ही प्यारे से .……

    विशेषतः – बेटी न ख़ता……
    हार्दिक शुभकामनाएँ कृष्णा जी

  4. सभी हाइकु बेटियों की तरह ही प्यारे से .……

    विशेषतः – बेटी न ख़ता……
    हार्दिक शुभकामनाएँ कृष्णा जी

  5. सभी हाइकु सुन्दर सृजन |बधाई कृष्णा जी |

  6. बहुत खूब कृष्णा जी! जितनी बार पढ़ा, उतनी बार मज़ा आया!! बहुत सुंदर रचना। आपको बधाई।

  7. बिटिया के जैसे ही बहुत प्यारे और कोमल हाइकु!
    हार्दिक बधाई कृष्णा दीदी !

    ~सादर
    अनिता ललित

  8. बहुत ही सुन्दर सृजन…आद. कृष्णा जी को हार्दिक बधाई !!


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: