Posted by: हरदीप कौर संधु | अक्टूबर 26, 2018

1872


डॉ. सुरंगमा यादव

1

चौथ का चाँद

उठी नव तरंग

प्रेम -सिन्धु में

2

अर्ध्य चढ़ाऊँ

करवा-2अखंड सुहागन

मैं कहलाऊँ

3

प्यार तुम्हारा

है शृंगार हमारा

सबसे प्यारा

4

प्रीत पिया की

अमोल उपहार

मिला संसार

5

चाँद सलोना

आजा तरसें नैना

प्रीत बुलाए

6

चदा का रूप

देख रीझती गोरी

लगे अनूप

7

प्रेम की डोर

बन्धन है जन्मों का

ओर न छोर

8

अक्षत प्रेम

अर्पण करूँ पिया

भर दूँ जिया

9

सजी मेहरी

लिपी-पुती देहरी

चाँद निहारे

-०-

Advertisements

Responses

  1. प्रेम से परिपूर्ण सुन्दर , मोहक हाइकु !
    हार्दिक बधाई |

  2. प्रेम पेज सुन्दर हाइकु | सुरेन्द्र वर्मा |

  3. बहुत मनभावन हाइकु, बहुत बधाई…|

  4. prem rs se sarabor haiku ,bahut bahut badhai

  5. प्रीत के रंग में रंगे सुन्दर हाइकु ।बधाई सुरंगमा ।

  6. आदरणीय सुरेन्द्र वर्मा सर एवं आप सभी के प्रति हृदय तल से आभारी हूँ।

  7. बहुत सुंदर हाइकु सुरंगमा जी बधाई।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: