Posted by: हरदीप कौर संधु | अक्टूबर 7, 2018

1869


1-डॉ.सुरंगमा यादव

1

धूप घनी है

मुसकानों की छाया

बिखरा दो न!

2

प्रेम की नदी

समर्पण को ढूँढे।

सागर-मन

3

मन का कोना

स्मृतियों का कोलाज

सजा रखना ।

4

ये कहकहे

समय की धार में

पल में बहे ।

5

तुम बिछड़े

पदचाप अब भी

देती आहट ।

6

ओ रे! बदरा

इतना न इतरा

अति न भली ।

 7

स्वच्छंद मेघ

रोकेगा कौन भला

नदी का वेग ।

8

मेघों की धूप

घूँघट से झलके

गोरी का रूप

9

देह से परे

कभी मन को मेरे

छूकर देखो ।

10

ये रनिवास

सजी-धजी रानियाँ

प्रतीक्षालय।

-0-

2-डॉ.पूर्वा  शर्मा

1

बिखरा पड़ा

पतझड़-सा मन

तेरे आँगन ।

2

लजाती धूप

व्योम-पथ पे  खड़ा

मेघ है बड़ा ।

3

प्रेम बेड़ियाँ

पहनाई जो तूने

बेफिक्र  उडूँ ।

4

जिंदगी धूप

बना है छतनार

तुम्हारा प्यार ।

5

उड़ान भरे

मन मेघदूत-सा

प्रेम-नभ पे ।

6

निद्रा में लीन

श्वेत लिहाफ़ ओढ़े

गिरि शृंखला ।

7

हौले-हौले से 

चढ़े तेरे प्रेम का

मीठा ज़हर ।

8

हिलोरे खातीं

अश्रु भीगी लहरें

मन -सागर ।

9

झर ही गए

नैनों से कुछ मोती

पाकर तुझे ।   

10

यादों के गुच्छे

हरे-भरे भीगे-से 

इस वर्षा में ।

11

झर ही गए

जीवन-टहनी से        

दुःख के पात ।

-0-

Advertisements

Responses

  1. ये रनिवास
    सजी-धजी रानियाँ
    प्रतीक्षालय।

    वाह वाह
    बहुत सुंदर सुरंगमा जी

  2. बिखरा पड़ा
    पतझड़-सा मन
    तेरे आँगन ।

    पूर्वा जी अद्भुत हाइकू हैं। बधाई।

  3. बहुत ही उम्दा , बेहतरीन हाइकु
    सचमुच👌👌👌
    हार्दिक बधाई आदरणीया सुरगमा जी , आदरणीया पूर्वा जी

  4. डॉ सुरंगमा यादव एवं डॉ पूर्वा शर्मा जी दोनों के हाइकु अनुपम बिम्बबात्मक सृजनात्मकता लिए हुए हैं।

  5. आप दोनों के ही हाइकु बहुत बेहतरीन हैं, मेरी हार्दिक बधाई…|

  6. सुरंगमा यादव जी व पूर्वा दोनों के बेहतरीन हाइकु ।खूब बधाई सुन्दर अभिव्यंजना के लिए ।

  7. बहुत सुंदर और सार्थक हाइकु आप दोनों हाइकुकारों के…

  8. सुरंगमा जी सुंदर हाइकु सृजन के लिए अभिनंदन … सभी हाइकु उम्दा …विशेषतः देह से परे …

    आप सभी का हृदयतल से धन्यवाद ।

  9. आप सभी स्नेही जनों को आत्मिक आभार।
    पूर्वा जी मनभावन हाइकु सृजन के लिए बहुत बहुत बधाई
    बिखरा पड़ा
    पतझर सा मन
    तेरे आँगन
    सचमुच मन को छू गया।

  10. बहुत बहुत सुंदर हाइकु… दोनों हाइकुकारों को हार्दिक बधाई

  11. दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई, सुन्दर हाइकु रचने हेतु।

  12. बहुत सुन्दर हाइकु ! सभी एक से बढ़कर एक !
    हार्दिक बधाई डॉ. सुरंगमा यादव जी एवं डॉ. पूर्वा शर्मा जी !

  13. सुरंगमा जी, पूर्वा जी, सुंदर सृजन।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: