Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 15, 2018

1864


1-मीठी-सी बोली – डॉ.जेन्नी शबनम   

1

मीठी-सी बोली   

मातृभाषा हमारी   

ज्यों मिश्री घुली! 

2

हिन्दी है रोती   

बेबस व लाचार   

बेघर होती! 

3

प्यार चाहती   

अपमानित हिन्दी   

दुखड़ा रोती!

4  

अंग्रेज़ी भाषा   

सर चढ़के बोले   

हिन्दी ग़ुलाम!   

5

विजय- गीत   

कभी गाएगी हिन्दी   

आस न टूटी!

भाषा लड़ती   

अंग्रेज़ी और हिन्दी   

कोई न जीती!

7  

जन्मी दो जात   

अंग्रेज़ी और हिन्दी   

भारत देश!

8   

मन की पीर   

किससे कहे हिन्दी   

है बेवतन!

9

हिन्दी से नाता   

नौकरी मिले कैसे   

बड़ी है बाधा! 

10

हमारी हिन्दी   

पहचान मिलेगी   

आस में बैठी!   

-०-

2विजय आनंद
1
प्रयाण-वेला
वक़्त की अदालत
आँसू बरसे ।

2
साँसों के धागे
वक़्त की करवटें
टूटा सितारा ।

3
ख्यालों के जाल
सहमा मन मृग
वक़्त शिकारी।

०-Vijay Anand <vjeanand@gmail.com>

०-

3नरेंद्र श्रीवास्तव
1

पीड़ा बरसी
आँसू से भर गईं
झील सी आँखें।
2

आँसू ने लिखा
भाग्य पर निबंध
अँधेरा पढ़े।
3
आँसू भरे थे
नयनों के डिब्बे में
छूते ही गिरे।
4
आँसू आकर
देते रहे दिलासा
सूनेपन में।
5
शब्द अंगारे
कलेजे पर पड़े
आँसू बुझाये।
6
निष्ठुर हैं वे
आँसू की गरमी से
पसीजें नहीं।
  7
खुशी मिली तो
आँसू झट आ गए
यादें लेकर।

रेंद्र श्रीवास्तव,पलोटन गंज ,गाडरवारा, जिला -नरसिंहपुर म.प्र.487 551
narendrashrivastav55@gmail.com

Advertisements

Responses

  1. बहुत ही सुंदर भावपूर्ण हाइकु
    हार्दिक बधाई आदरणीय जेन्नी शबनम जी ,आदरणीय विजय आनन्द एवं आदरणीय नरेंद्र श्रीवास्तव जी

  2. डॉ. जेन्नी शबनम जी के हिन्दी से संबंधित उत्कृष्ट हाइकू अभिव्यक्तियाँ।
    रश्मि शर्मा जी का होड़ पर एक मात्र हाइकू की अत्युत्तम अभिव्यक्ति।
    नरेन्द्र श्रीवास्तव जी के आँसुओं पर अत्युत्तम हाइकू अभिव्यक्तियाँ।
    संपादक द्वय का हार्दिक अभिनंदन एवं आभार मेरे हाइकुओं को स्थान देने हेतु।

  3. जेन्नी जी, विजय जी और नरेंद्र जी को सुंदर हाइकु सृजन के लिए अभिनंदन।

  4. जेन्नी जी के हिन्दी दिवस के सटीक हाइकु । विजय जी व नरेन्द्र जी का सुन्दर सृजन । आप सबको बधाई ।

  5. सुंदर सृजन के लिए आप सभी रचनाकारों को बहुत बधाई।

  6. बहुत उम्दा हाइकु हैं सभी…हार्दिक बधाई…|

  7. हिन्दी से नाता
    नौकरी मिले कैसे
    बड़ी है बाधा! …सच्चाई उद्धृत करता यह हाइकु सुन्दर| सभी सटीक हाइकू के लिए जेन्नी जी को बधाई|
    ख्यालों के जाल
    सहमा मन मृग
    वक़्त शिकारी।..बहुत सुन्दर.विजय आनंद जी को बधाई !
    शब्द अंगारे
    कलेजे पर पड़े
    आँसू बुझाये।…बहुत बढ़िया| नरेंद्र श्रीवास्तव जी को बधाई !

  8. बेहतरीन हाइकु सृजन हेतु हार्दिक बधाई

  9. बहुत सुन्दर , सामयिक प्रस्तुति , बहुत बधाई !


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: