Posted by: हरदीप कौर संधु | अगस्त 7, 2018

1851


1-शशि पाधा

1

अक्षर झरे

कल्पना सरसि से

गागर भरे ।

2

ओ दोपहरी!

घनी घाम चुभती

संझा बुला री ।

3

क्यों दोहराऊँ

इस व्यथा -कथा को  

चुप पी जाऊँ  ।

4

धीर सद्भाव

करते तुरपाई

उधड़े रिश्ते।

5

मौन की भाषा

जो समझे, वो जाने

प्रेम दीवाने ।

-०-

2-शैलजा सक्सेना

1

दिन कमान

धूप जलता तीर

ज़ख्मी शरीर!

2

हवा बीमार

कैसे हो उपचार?

दिशायें स्त्बध!

3

दरकी मिट्टी

इतना क्यों हो गुस्सा?

पसीज भी लो!

4

मन है भारी,

झरते भाव-आँसू

शब्द भीगते!

5

सज्जित घर

खनकते न स्वर

बच्चे लापता !

-०-

3-विकास सक्सेना

1

फटा है जूता

उधड़ा है स्वेटर

हमारा कल।

2

कड़ी  है धूप

पेड़ों की घनी छाया

बचाये रूप।

3

माँ ने था  पीटा

पिता ने दुलराया

वो मुस्कुराया !

-0-

Advertisements

Responses

  1. Bahut payare haiku hain meri sabhi rachnakron ko bahut bahut shubhkamnayen

  2. waaaah ! bahut sundar haiku , rachanaakaaron ko haardik badhai !

  3. सभी हाइकु सुन्दर …
    क्यों दोहराऊँ…, दिन कमान…., फटा है जूता….. उम्दा
    सभी को बहुत-बहुत बधाई

  4. सभी हाइकु बहुत सुन्दर. सभी हाइकुकारों को बधाई.

  5. शशी जी ,विकास जी एवं शैलजा जी
    आप दोनों के पढ़े हाइकु ,
    हृदय को एक नयी प्रेरणा मिली ,
    मैं जानता हूँ कि कोशिस करने वाले कुछ भी कर सकते हैं | पाठकों को आपसे नयी प्रेरणा मिलेगी | श्याम -हिन्दी चेतना

  6. सुन्दर हाइकु शशि जी का ५, विकास जी का १ दोनों बहुत सुन्दर हाइकु हैं ,
    शैलजा जी के हाइकु भी अच्छे लगे , सभी रचनकारों को हार्दिक बधाई

    2018-08-07 2:40 GMT+05:30 हिन्दी हाइकु(HINDI HAIKU)-‘हाइकु कविताओं की वेब
    पत्रिका’-2010 से प्रकाशित हो रही है। आपकी हाइकु कविताओं का स्वागत है ! :

    > हरदीप कौर संधु posted: “1-शशि पाधा 1 अक्षर झरे कल्पना सरसि से गागर भरे । 2
    > ओ दोपहरी! घनी घाम चुभती संझा बुला री । 3 क्यों दोहराऊँ इस व्यथा -कथा को
    > चुप पी जाऊँ । 4 धीर सद्भाव करते तुरपाई उधड़े रिश्ते। 5 मौन की भाषा जो समझे,
    > वो जाने प्रेम दीवाने । -०- 2-शैल”
    >


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: