Posted by: हरदीप कौर संधु | मई 31, 2018

1842


1-डॉ.कुँवर दिनेश

1

कहीं बुराँश
वसन्तवह्नि लिये
कहीं पलाश

2

ज़रूरी काम
ठहर जा शहर!
ट्रैफिक जाम

3

हर पहर
कहे व्यथा नदी की
हर लहर

4

नदी में बाढ़
नेता-अधिकारी की
मैत्री प्रगाढ़

5

उषा काल में
खगों की आकुलता
डाल डाल पे

6

साँझ सावनी
शिमला क्षितिज पे
बदली घनी

7

 

सोए हैं सब
जग रहा जुगनू
जगती शब

8

राह पुरानी

बच्चों की किलकारी

शाम सुहानी

(‘जग रहा जुगनू’: हाइकुसंग्रह-2018से)

 

-0-

कुँवर दिनेश

जन्म:10 जून 1973

जन्मस्थान: नई दिल्ली। मूलत: शिमला, हिमाचल प्रदेश।

शिक्षा: एम.ए. (इंग्लिश), पीएच.डी. (इंग्लिश)

प्रकाशित कृतियाँ- 10 हिन्दी काव्यसंग्रह: पुटभेद (2003), कुहरा धनुष (2006), उदयाचल (2009), धूप-दोपहरी (2010), आँगन में गौरैया (हाइकु 2013),  पगडण्डी अकेली (हाइकु 2013), बारहमासा: हाइकुमाला (2014), उम्मीदों का क़फ़स (2014), दोहा वल्लरी  (2015), जापान के चार हाइकु सिद्ध (काव्यानुवाद, 2015), जग रहा जुगनू (हाइकु 2018)

+ 14 अंग्रेजी काव्य संग्रह, 5 अंग्रेजी साहित्यालोचना पुस्तकें, 5 अंग्रेजी साहित्यालोचना संपादित पुस्तकें।

संपादन: हाइफन हिन्दी हाइकु विशेषांक (2014)

सम्मान व पुरस्कार: हिमाचल प्रदेश राज्य साहित्य अकादमी पुरस्कार– 2002,आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी सम्मान,सारस्वत सम्मान-2010,भारतेन्दु हरिशचंद्र साहित्य सम्मान,शब्दश्री सम्मान  इत्यादि।

अन्य:

+देश-विदेश की प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में तथा अंतर्जाल पर कविताएँ, कहानियाँ, समीक्षाएँ, आलेख एवं साक्षात्कार प्रकाशित।

+अंग्रेज़ी साहित्यालोचना पुस्तकें ताईवान, तमिलनाडू, कर्णाटक, हरियाणा, गुजरात, छत्तीसगढ़ एवं हिमाचल प्रदेश के विश्वविद्यालयों द्वारा यू.जी./पी.जी. व एम.फिल. स्तर के पाठ्यक्रमों के लिए अनुमोदित/अनुशंसित।

+हिन्दी व अंग्रेज़ी काव्य पर देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में एम.फिल. और पीएच. डी.स्तर के शोधकार्य।

प्रसारण: आकाशवाणी और दूरदर्शन, शिमला + साधना टी.वी. से काव्य, वार्ता, चर्चा का प्रसारण।

+ जनवरी-फ़रवरी २०१६ में कविता संग्रहउदयाचल” (२००९) का आकाशवाणी, शिमला से धारावाहिक प्रसारण।

सम्प्रति: एसोसिएट प्रोफेसर  (अंग्रेजी ) + संपादक : हाइफन

संपर्क:  #3, सिसिल क्वार्टर्स, चौड़ा मैदान, शिमला 171004 हिमाचल प्रदेश, भारत।

ईमेल– kanwardineshsingh@gmail.com

मोबाइल- +919418626090

 

-0-

2.डॉ0 सुरंगमा यादव

  1

ग्रीष्म भौकाल

पंथी पंछी बेहाल

हुए निढाल

2

चीर कलेजा

दिखलाती धरती

मेघ पसीजा

3

हाँफता सूर्य

गर्मी की दोपहर

ढा कहर

4

ग्रीष्म उत्पात

आ ग बरसात

मिली निजात

5

सूर्य का कोप

घबरा उठी नदी

दुर्बल हुई

6

ग्रीष्म प्रचंड

बरसती अगन

तप्त पवन

7

ताप बढ़ाए

सूर्य उत्तरायण

रोष दिखाए

8

धूप चादर

गरमी में गरम

सर्दी में नर्म

-0-

डॉ0 सुरंगमा यादव,असि0 प्रो0   हिन्दी,महामाया राजकीय महाविद्यालय महोना

लखनऊ

dr.surangmayadav@gmail.com

Advertisements

Responses

  1. bahut achchhe lage haiku dono rachnakaron ko meri hardik shubhkamnayen…

  2. डा. कुंवर दिनेश सिंह के मुख्यत: प्रकृति विषयक तथा डा. सुरंगमा यादव के ग्रीष्म केंद्रित बेहतरीन हाइकु | बधाई | सुरेन्द्र वर्मा |

  3. बहुत बढ़िया हाइकु !
    दोनों हाइकुकारों कोहार्दिक बधाई !!

  4. दिनेश जी …सभी हाइकु बहुत ही सुन्दर बन पड़े हैं… शीर्षक हाइकु ‘जग रहा जुगनू’… बहुत सुन्दर
    सुरंगमा जी ने प्रचंड गर्मी के यथार्थ हाइकु रचे हैं …
    बहुत-बहुत बधाई

  5. चीर कलेजा / दिखलाती धरती / मेघ पसीजा ।

    धूप चादर / गरमी में गरम / सर्दी में धर्म ।

    – सुन्दर हाइकु के लिए डाॅ. सुरंगमा जी को बधाई!

  6. चीर कलेजा / दिखलाती धरती / मेघ पसीजा ।

    धूप चादर / गरमी में गरम / सर्दी में नर्म ।

    – सुन्दर हाइकु के लिए डाॅ. सुरंगमा जी को बधाई!

  7. उम्दा हाइकु। आप दोनों रचनाकारों को मेरी हार्दिक बधाई।

  8. रचनाकारद्वय को सारगर्भित रचनाओं हेतु हार्दिक बधाई।

  9. अति सुन्दर हाइकु के लिए कुँवर दिनेश जी एवं सुरंगमा जी को हार्दिक बधाई । रेणु चन्द्रा


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: