Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अक्टूबर 18, 2017

1803


कल्याणा

1-अनिता ललित 

1

इस बरस
पापा नहीं हैं साथ
दीये उदास।
2
कैसी दीवाली !
पापा की कुर्सी ख़ाली
दिल है भारी।
3
सूना आँगन
अँधेरे में सुबके
पापा के बिन।

4

माँ है उदास
खोई-खोई रहती

रो भी न पाती।

5

अँधेरा घन

है दिल में पापा की 

यादें रौशन !

6
दे के दुआएँ
न जाने कहाँ खोए
क्यों ऐसे सोए?
7

उनका प्यार  

आशीष भरा हाथ 

है मेरे साथ !

8

मेरे ईश्वर,!
मेरे पापा को देना
अपना साथ।

9

देना सुक़ून

सदा थामे रहना 

उनका हाथ !

-0- 

2-डॉ.पूर्णिमा राय

  1

आपसी स्नेह

भावना के दीपक

चलो जलाएँ!!

 2

जलते दीपक

तम मिटाने हेतु 

हुआ मिलाप!!

3

मन- आँगन

दीप की लौ बढ़ाती

प्रेम-सौहार्द!!

 4

सुखद स्पर्श

भावपूरित नैन

चमक लौ की!!

5

दीपक की लौ

निराशा में आशा को

करे सजीव!!

6

शुद्ध विचार

स्वस्थ वातावरण

दीप जलाना!!

 7

‘पूर्णिमा’-रात

चाहें सभी मनुज

दीप जलाओ!!

8

दीप माटी के

मनमोहक लगें

जलाके देखो!!

9

खरीदें दीये

रौनक चेहरे पर

निर्धन खिला!!

10

बिकें दीपक

दुआएं दामन में 

सजी दीवाली!!

-0-

डॉ.पूर्णिमा राय,अमृतसर(पंजाब)

ईमेल–drpurnima01.dpr@gmail.com

वेबसाइट—www.achintsahitya.com

-0-

3-पुष्पा मेहरा

1

खोल के रखो

द्वार इस मन के

आए रोशनी ।

2

चंचल धारा

नेह डूबी वर्तिका

गन्तव्य ढूँढे ।

3

शान्त मन से

गाँठ-गाँठ खोलके

उजाला बुनें ।

4.

झिलमिलाते

आकाश में सितारे

धरा पे दीप ।

5

आकाशदीप

भेद रहे अँधेरा

संकल्पबद्ध ।  

6

प्रेम की बाती

मन के दिवले में

अक्षुण्ण जले ।

7.

जलता रहे

मानवता का दीप

खुशियाँ व्यापें ।

8

माटी का दीप

रुई की बाती-तेल

मिल के जले ।

9

नन्हे दीपक

एकता में बल है

बता के जलें ।

-0-Pushpa.mehra @gmail .com

Advertisements

Responses

  1. Bahut khub dipavali ki shubhkamnaon ke saath bahut bahut badhi sundar lekhan ke liye…

  2. बहुत सुन्दर-सार्थक हाइकु हैं सभी…|
    अनीता जी के हाइकु मन भिगो गए…|
    आप सभी को बहुत बधाई…|

  3. सभी हाइकु बहुत सुंदर। अनिता जी के बहुत मार्मिक हाइकु।
    आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

  4. अनिता ललित जी मार्मिक अभिव्यक्ति मन को छू गई।

  5. पूर्णिमा जी, पुष्पा जी दीपावली विषयक अच्छे हाइकु।

  6. अनिता जी ,पूर्णिमा जी,पुष्पा जी सभी हाइकु अच्छे हैं ।सभी को बहुत बहुत बधाई ।रेणु चन्द्रा

  7. सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।बेहतरीन भावनाओं से सजे हाइकु।

  8. अनिता ललित के पापा बिन दिवाली के हाइकु दिल से लिखे गए गहरी उदासी के हाइकु हैं । आ.पुष्पा दी , पूर्णिमा के सुन्दर हाइकु के लिये बधाई । अनिता जी धीरज रखो । पापा बिना सभी उदास होंगे । धीरज धरें ।स्नेह विभा रश्मि

  9. दिवंगत पापा की याद में लिखे शोक में डूबे हाइकु मन को भिगो गए ,अनिता जी ईश्वर आपको दुःख सहने की शक्ति दे यही कामना है |पूर्णिमा जी के सभी हाइकु सुंदर हैं ९ नम्बर का हाइकु विशेष लगा , बधाई | पुष्पा मेहरा


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: