Posted by: डॉ. हरदीप संधु | दिसम्बर 18, 2016

1710


1-kamboj-1

manjusha-man-2

manjusha-man-5

manjusha-man-1 manjusha-man-3 manjusha-man-4

Advertisements

Responses

  1. वाहहह…….

  2. वाह ! एक-एक हाइगा एक-एक मोती के जैसे … अनमोल, गहराई में समाया हुआ !
    सरस्वती माथुर जी…हिमांशु भैया जी के हाइकु को हाइगा कोलाज में बनाने का आपका यह प्रयास सराहनीय है ! बहुत सुंदर हाइकु चुने आपने और चित्र भी बहुत सुंदर !

    मंजूषा जी … आपका लेखन सदैव ही दिल के आर-पार हो जाता है ! आप जो भी लिखती हैं, उसके दर्द से कोई भी पाठक शायद ही अछूता रह पाता होगा ! बहुत ही सुंदर एवं भावपूर्ण हाइगा हैं आपके !
    आप तीनों को हार्दिक बधाई !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

  3. सुन्दर हाइकु 👍

  4. ੱसरस्वति जी काम्बोज जी के हाकुओंपर हाइगा की बहुत सुन्दर प्रस्तुति लगी ।और मंजूषा मन जी आप के चित्र और हाइकु का सुमेल बहुत उत्तम बन पड़ा है । मनमोहक भी है ।दोनों को हार्दिक बधाई ।

  5. सरस्वती जी… काम्बोज जी के बेजोड़ हाइकुओं संग चित्रों का बहुत सुन्दर संगम।
    मंजूषा मन जी….भावपूर्ण हाइकु बहुत ख़ूबसूरत चित्र।
    आप सभी को हार्दिक बधाई!

  6. बहुत सुन्दर हाइगा…हार्दिक बधाई…|

  7. आद.सरस्वति जी आद. हिमांशु जी के उत्कृष्ट हाइकु के हाइगा की बहुत सुन्दर प्रस्तुति लगी ।
    मंजूषा मन जी आपकी रचना मनमोहक !!
    सभी को हार्दिक बधाई !!!


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: