Posted by: डॉ. हरदीप संधु | जुलाई 4, 2016

1639


आज हिन्दी हाइकु सातवें वर्ष में प्रवेश कर रहा है । अब तक 1638 अंक प्रकाशित हो चुके हैं। कुल 106 देशों तक  हिन्दी हाइकु पहुँचा। अब तक के हिट्स 2,34, 574 तथा पढ़े गए पन्ने 2,32,719 हुए हैं।अब तक पाठकों की कुल टिप्पणियाँ14,042 हैं ।सभी साथियों का आभार !!

सम्पादक द्वय

1-हरकीरत ‘हीर’

1

हरे हो गए

पहली बारिश में

दिल के दर्द !

2

भीगा- भीगा है

मौसम और मन

कहाँ हो तुम !?!

3

आज टूटेगा

कहर आँसुओं का

बारिश संग …!

4

पत्तों के छोर

टिकी  बूँदें, निहारें

क्यों मेरी ओर !?!

5

रोई क्यों रात

बिछड़ी यादों संग

ज्यूँ बरसात !

6

डूबते रहे

अश्क़ों की बारिश में

प्रेम के पात ।

-0-

2-भावना सक्सैना

1

बीज प्रेम के

हो गए अंकुरित

वर्षा जल से।

2

साथ तुम्हारा

भिगोए तन मन

खिले मौसम।

3

आहत मन

शीतल करे वर्षा 

दर्द मिटाए।

4

फिसलें बूँदें

पत्तों से पत्तों पर

मुझे रिझाएँ

5

महकी रात

लेकर आई संग

पिय सौगात।

-0-

3-अनिता ललित
1
मन अथाह
भाव-लहरें चुनें
हाइकु-मोती।

2
मेघ हैं छाए
आँखों में मोती बन
तुम भी आए।
-0-

4-विभा रश्मि

1

डूब के लिखी

प्रेम की पाती भेजी

बरखा – भीगी ।

2

बूँदों का प्यार

किया है सराबोर

ऋतु बरखा ।

3

रूठी रजनी

ओ री प्रिय सजनी

बूँदों नहाई ।

-0-

5-डॉ सिम्मी भाटिया

सिम्मी1

बरसा पानी
जलमग्न है रानी
उठे उमंग

2

महकी धरा
सावन हरा भरा
गिरे फुहार

3

बूँदों के मोती
सुध कैसे रहती
बिछड़े मेघ

4

बजता साज
टिप टिप बरसे
थिरके पाँ

5

मेघ बरसे
घनप्रिया चमके
मंजरी हँसे

6

बरखा
झूमती मस्त घटा
विहँसी
धरा

7

उमड़े मेघ
छाई काली घटा
नाचे मयूरी ।

8

भरे पोखर
आए याद बचपन
कागज़ी नाव

9

बरखा आते
पेड़ पौधे हँसते
झूमते पत्ते

10

बहती नदी
उफनता सागर
गाए मल्हार

-0-

6-प्रदीप कुमार दाश ‘दीपक’

1
दिन है दूल्हा
दुल्हन सज रही
चाँदनी रात ।
2
धूप की थाली
बादल मेहमान
सूरज रोटी ।
3.
देना चाहता
मुट्ठी में लिये धूप
सूर्य भी सुख ।
4
नदी पगली
किनारे की सीमाएँ
लाँघती चली ।
5

मलय गिरि
वाँचता परिमल
लूटता नभ ।

6
हवा पगली
दलदल है स्मृति
निकलो जूही ।
7
विकट रात
एक दीप बताए
उसे औकात ।
8
छोटी चिड़िया
उड़ रही नभ में
बाज झपटा ।
9
जड़ सींचती
पीहर आती बेटी
ओस की लड़ी ।
         0

 

Advertisements

Responses

  1. हिन्दी हाइकु सातवें वर्ष में प्रकाश कर रहा है,इसके लिए संपादक दिवस निश्चित रूप से बधाई के पात्र हैं।बहुुत-बहुत बधाई व शुभकामनाऐं
    कैलाश बाजपेयी,कापुर

  2. कृपया प्रकाश के स्थान पर प्रवेश पढ़ने का कष्ट करें

  3. हिन्दी हाइकु सातवें वर्ष में प्रवेश कर रहा है, अतः काम्बोज भाई और हरदीप जी के साथ सभी हाइकुकारों को बधाई. अलग अलग मौसम और भाव के हाइकु बहुत भाए. सभी को बधाई.

  4. ‘हिन्दी-हाइकु’ को उसकी सातवीं सालगिरह पर ढेरों बधाई एवं शुभकामनाएँ ! आदरणीय काम्बोज भैया जी तथा बहन हरदीप जी के परिश्रम और लगन से ही यह आज फल-फूल रहा है !आप दोनों को और सभी साथी हाइकुकारों को हार्दिक शुभकामनाएँ !
    सुंदर, भावपूर्ण हाइकु से सुसज्जित इस पोस्ट के लिए सभी साथियों को बहुत बधाई!!!

    ~सादर
    अनिता ललित

  5. हिन्दी हाइकु के सातवें वर्ष में प्रवेश पर सभी साथियों को हार्दिक बधाई।
    सभी साथियों के वर्षा ऋतू पर अच्छे हाइकु।

  6. सुंदर हाइकु मन मोह गये … संपादक द्वय व सभी रचनाकारों को बधाई व शुभकामनाएँ ।

  7. ‘हिन्दी-हाइकु’ को उसकी सातवीं सालगिरह पर बधाई एवं शुभकामनाएँ !

  8. हिंदी हाइकु के सात वर्ष पूरे होने पर भैया व हरदीप जी के साथ सभी को बधाई।💐💐💐
    आप दोनों का ह्रदय से आभार कि आपने न सिर्फ हमें हाइकु से जोड़ा बल्कि सभी को जोड़कर एक बृहत् परिवार भी बनाया🙏🙏🙏

  9. हिंदी हाइकु की सातवीं सालगिरह पर बहन हरदीप जी व कम्बोज भाई जी को हार्दिक शुभकामनाएँ ,उपरोक्त रचनाकारों को भावसज्जा हेतु बधाई |
    लगन दीप
    जहाँ-जहाँ भी जला
    उजाला हुआ|
    पुष्पा मेहरा

  10. दीदी एवं भैया सहित सभी साथियों को बधाई । हरे हो गए ,बूंदो का प्यार भरे पोखर,ओस की लड़ी सहित सभी हाइकु सुन्दर ☺

  11. हिन्दी हाइकु का सातवें वर्ष में प्रवेश हमसब को नये नये रचना कारों से मिलायेगा ।अच्छी रचनायें से इस पत्रिका का भण्डार भरेगा यही कामना है ।आज के वर्षा पर सभी हाइकु सुन्दर लगे । सब को बधाई ।

  12. हिन्दी हाइकु की सातवीं सालगिरह पर आ० भाई काम्बोज जी तथा बहन हरदीप जी को हार्दिक बधाई। बहुत सुन्दर हाइकु प्रत्येक रचनाकार को बहुत-बहुत बधाई।

  13. हिन्दी हाइु के सातवें वर्ष में प्रवेश हेतु बहुत बहुत बधाई| सफर निरंतर जारी रहे इसके लिए हार्दिक शुभकामनाएँ| सभी रचनाकारों को सुन्दर हाइकु के लिए बधाई !

  14. आदरणीय संपादक द्वय को शुभकामनाएं व बधाई ।

  15. बहुत सुंदर ,मनोहर हाइकु !
    इस सुअवसर पर समस्त हिंदी हाइकु परिवार को बहुत-बहुत बधाई और सतत सुंदर सृजन की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    परिवार उन्नति के सोपान चढ़े ,शिखर छू ले ऐसी कामना करती हूँ …जिनकी लगन और समर्पण इस भवन की सुदृढ़ नींव तथा योजक सीमेंट बने हैं उन बहन हरदीप जी ,काम्बोज भाई जी को हृदय से आभार !
    सादर
    ज्योत्स्ना शर्मा

  16. हिन्दी हाइकु परिवार को सातवीं वर्षगाँठ पर हार्दिक बधाई ।

    नवरंगों के
    पहन परिधान
    छटा बिखेरे ।
    अनंत शुभकामनायें ।
    काम्बोज भाई व हरदीप बहन के अथक प्रयास सदा रंग लाएँ ।

  17. सुंदर हाइकु ….… हिंदी हाइकु की सातवीं सालगिरह पर भैया जी , हरदीप जी व सभी रचनाकारों को बधाई व हार्दिक शुभकामनाएँ ,…..

  18. हमारे इस हाइकु परिवार के सभी साथियों को ढेरों शुभकामनाएँ और बधाइयाँ…| खुद को मैं सौभाग्यशाली मानती हूँ कि आदरणीय काम्बोज जी और हरदीप जी ने हमेशा मुझे भी इस परिवार का एक अहम् हिस्सा बनाए रखा और कदम-कदम पर अपने साथ का भी अहसास दिलाए रखा…|
    यह परिवार दिनोदिन और भी ज़्यादा उन्नति करता रहे, ऐसी ही मंगलकामना है…|

  19. हीर जी ,भावना जी ,अनिता जी,सिम्मी जी व प्रदीप कुमार जी सुंदर हाइकु रचना के लिए बधाई ।मेरे हाइकु को शामिल करने के लिए आभार ।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: