Posted by: डॉ. हरदीप संधु | मई 24, 2016

1622


1-संगीता बैनीवाल

1

 गुलशन भी

 बुलबुल ख़ामोश

 किसे है होश ।

2

 बिछी थी धूप

 गाँव की छतों पर

 पैबन्द लगाने ।

3

 छुपके बैठी

 ईख रस चखती

 ओस की बूँद  ।

4

 घेरे हैं मुझे

 बचपनी चेहरे

 साँझ-सवेरे

5

 धूप के पाँव

 आँगन मुंडेर छत

 भागे-दौड़े से ।

 6

 धूप में तपा

 कुंदन बनकर

 किसान मरा ।

7

 आपका आना

नैन-फूल बिछाना

 इन्तज़ार था ।

8

 शीतल छाँव

 माँ तेरा ये आँचल

 सुस्ताना चाहूँ ।

9

 कपास -फूल

 चिटका चुग लिया

 हल्का, दूधिया ।

10

 मोती न सही

 शीतल कर गई

 ओस की बूँद  ।

-0-

2-  मनीषा सक्सेना

1

राहत देती

घुटने सहलाती

टुकड़ा धूप

2

पहाड़ स्पर्श

आचमन झीलों का

पधारी धूप

3

वक्त की छन्नी

बारीक-दरदरा

छानती धूप

4

थी गुलाब वो

बनी है अब शूल

धूप बबूल

5

तप के आई

बादलों से लड़ती

साहसी धूप

6

खेत में सोना

फलियों में मणिका

बो गई धूप

7

भोर को लाल

संध्या को सुनहरा

रंगती धूप

8

कभी झरोखों

कभी द्वार संदों से

झांकती धूप

9

गिरि से कूदी

वृक्ष फुनगी टिकी

फुर्तीली धूप

10

फूलों में रंग

पत्तों में हरियाली

सुगंधा धूप

 -0-

मनीषा सक्सेना ,जी १७ बेलवेडियर प्रेस कॉलोनी ,मोतीलाल नेहरू रोड

इलाहाबाद ,उत्तरप्रदेश

-0-

3-सविता अग्रवाल ‘सवि’

1

कैसी नियति ?

समय खराब है

खो गयी मति ।

2

काटो ना इन्हें

पेड़ों से करो प्यार

जीव-आधार ।

3

जब लू चली

ठंडी छाँव ही लगे

तन को भली ।

4

प्रातः किरण

गुनगुनाया मन

खिला चमन ।

5

मन आकाश

यादों के मेघ झरे

देकर थाप ।

6

शीत के बाद

बसंत का आलाप

मिटा संताप ।

7

बालक -मुख

चन्द्रमा -सी मुस्कान

भुलाए दुःख ।

8

सूरज दूल्हा

पहन लाल जामा

संध्या से मिला ।

9

जिह्वा की मार

भोले -भाले मन पे

करती वार ।

-0-

7059 Chigwel Crt.

Mississauga, Ontario

Canada L4T 1N3

-0-

Advertisements

Responses

  1. संगीता बेनीवाल जी और मनीषा जी आपदोनो ने ही सुन्दर सृजन किया है मेरी ओर से आप दोनों को हार्दिक शुभकामनाएं | मेरे हाइकू को यहाँ स्थान देने के लिए सम्पादक द्वय का हार्दिक आभार |

  2. सविता जी, संगीता जी एवं मनीषा जी सभी हाइकू एक से बढ़ कर एक हैं, सुन्दर सृजन के लिये अाप तीनों को बहुत बहुत बधाई

  3. वाह बेहद सुन्दर हाईकु ।संगीता जी के हाईकु कई रंग लिए हुआ आपका आना ,शीतल छांव ,धुप के पाँव सुन्दर हाइकु। मनीष जी ने कमाल।कर दिया धूप के इतने खूबसूरत बिम्ब उकेरे की जैसे चलचित्र देख रहे हो। खेत में सोना गिरी से कूदी कभी झरोखे सभी सुंदर।सविता जी ने भी कई पहलुओ को खूबसूरती से पिरोया है हाइकू के द्वारा। यादो के मेघ सूरज दूल्हा अति सुन्दर ।सभी को बधाई ☺

  4. मनीषा जी कमाल किया आप ने धूप के नाना रूप दिखाकर ,अच्छा लगा । संगीता जी आपने भी ओस के रंगारंग रूप सजा दिये हाइकुयों में ।वाह… छुपके बैठी/ इख रस चूसती / ओस की बूंद ।और सविता जी रितु परिर्तन का यह रूप भला लगा …शीत के बाद/ बसंत का आना/ मिटा संताप । सब को बधाई ।

  5. बड़े खूबसूरत विविध रंगों के मनमोहक हाइकु….सविता जी, संगीता जी, मनीषा जी सुन्दर सृजन के लिए बहुत-बहुत बधाई।

  6. संगीता जी आपके विविध पहलुओं को स्पर्श करते हाइकु अच्छे लगे,मनीषा जी धूप से सम्बंधित आपके सारे हाइकु भी अच्छे हैं एवं सविता अग्रवाल जी की श्रृंगार,वात्सल्य तथा प्राकृतिक प्रेम
    को उजागर करते समस्त हाइकु मनमोहक लगे,हमारी ओर सेआप त्रय हाइकूकार को हार्दिक शुभकामनाएं।

  7. आप सभी का हार्दिक धन्यवाद |इसी तरह प्रोत्साहित करते रहिये |

  8. सविता जी, संगीता जी एवं मनीषा जी सभी हाइकु लाजवाब हैं , सुन्दर सृजन के लिये अाप तीनों को बधाई .

  9. सविता जी, संगीता जी एवं मनीषा जी सुन्दर सृजन के लिये अाप तीनों को बहुत बहुत बधाई!

  10. धूप री धूप \ तेरे रूप अनेक \तू तो है एक |मनीषा जी आपके धूप केसाथ-साथ अन्य सभी हाइकु भी बहुत अच्छे हैं ,सविता जी पर्यावरण की सुरक्षा हेतु पेड़ों की रक्षा का महत्व बताता हाइकु तथा इसी भाव से सम्बन्धित हाइकु – गुलशन भी \बुलबुल ख़ामोश\ किसे है होश! आज के विकासशील युग पर प्रहार कर रहा है | सभी हाइकु सराहनीय हैं तीनों रचनाकारों को बधाई | घरेलू परेशानियोंवश प्रतिक्रिया देने में देरी हुई |

    पुष्पा मेहरा

  11. Naye-naye se sundar Bhav aur bimb liye mnbhavan haiku !
    Hardik badhaaii ..

  12. manisha ji savita ji gulshan ji alag alag bhavo ke sunder haiku bahut bahut badhai ho aap tino ko
    rachana

  13. सभी हाइकू बहुत पसंद आए, पर ये बहुत अच्छे लगे…|
    बिछी थी धूप
    गाँव की छतों पर
    पैबन्द लगाने ।

    गिरि से कूदी
    वृक्ष फुनगी टिकी
    फुर्तीली धूप

    सूरज दूल्हा
    पहन लाल जामा
    संध्या से मिला ।

    आप तीनो को हार्दिक बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: