Posted by: डॉ. हरदीप संधु | मार्च 24, 2016

1593


All

1- डा  सुरेन्द्र वर्मा 

1

त्याग अहं को 

होली के दिन चार 

खेलो, हँस लो ।

2

गाँठ खोल दो 

बँधी तन-मन की 

होली के दिन 

3

बहाओ मत 

सदा रहे बहता 

अमृत जल॥

4

गोरी के गाल 

गोरा हुआ गुलाल 

डोरा आँखों का 

5

तुम से मिल 

खुशी से लबालब 

आँसू छलके 

6

मौन की भाषा 

चुप रहकर भी 

बयाँ हो गई 

7

सोच समझ 

पड़ती है महँगी 

नादानी अच्छी 

8

कुछ तरल 

सरिता की भाँति है 

तेरे अन्दर 

9

सूखने न दें 

नदी है जो भिगोती 

हमारा मन 

 -0-

2-डॉ सिम्मी भाटिया
1

डालती रंग
चाहती पिया संग
मनाऊँ होली।

2

हर्ष उल्लास
आया रंग  त्योहार
भंग बहार।

3

ए होलिया
शरमाये गोरिया
भीगे चोलिया ।

4

साजन बैरी
करत ठिठोलिया
खेलत होरी ।

5

भूले शत्रुता
मिले अपनापन
आया फागुन

6

राधा के संग
श्याम खेलत रंग
आई रे होली

7

बिन साजन
सुहाए न फागुन
कोरी चूनर

8

भंग का रंग
मदमस्त है चाल
चढ़त नशा

-0-

3-सुनीता शर्मा

1

जीवन रंग
सुख-दुःख के संग
है अविनाशी
2
होलिका- दहन
प्रदूषण कारक
रोते हैं वन
3
विषैले भोज
त्योहारों की सौगात
आलस्य त्यागो
4
प्रेम के संग
पौधे फूल भेंट हो
असली होली
5
प्रकृति झूमे
रंग -बिरंगे पुष्प
खेले होली
6
खेलती होली
इंद्रधनुषी किरणे
मेघों के संग
7
हर्बल रंग
खिले मुख मंडल
चन्दन संग
8
बेरंग मन
रमती वृन्दावन
कान्हा के संग
 -0-

Advertisements

Responses

  1. डा सिम्मी भाटिया जी की रचना ने उमंग तरंग का संचार कर दिया।

  2. त्याग अहं को \होली के दिन चार \खेलो , हँस लो | बिन साजन\सुहाए न फागुन \कोरी चूनर|
    जीवन रंग\ सुख-दुःख के संग\ है अविनाशी | अर्थ की दृष्टि से उत्तम हाइकु, मननीय वर्मा जी, सिम्मी जी व सुनीता जी को बधाई |
    पुष्पा मेहरा

  3. बहुत सुन्दर अर्थपूर्ण हाइकु—-सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई

  4. होली के अवसर पर बहुत सुन्दर ,सारगर्भित हाइकु …आदरणीय डॉ. वर्मा जी , सिम्मी भाटिया जी एवं सुनीता शर्मा जी को हार्दिक बधाई !

  5. सभी रचनाकारों के अर्थपूर्ण, सारपूर्ण हाइकु, बधाई

  6. सादर धन्यवाद आदरणीय संपादक मंडल जी
    ५ वें हाइकु की त्रुटि हेतु क्षमा प्रार्थी |
    इसे ऐसे पढ़िएगा —-
    प्रकृति झूमे
    रंग -बिरंगे पुष्प
    खेलते होली

  7. आदारणीय पुष्पा महरा जी , आदरणीय कृष्ण मेहरा जी , आदरणीया ज्योत्सना शर्मा जी , आदरणीय अनीता मण्डा जी आपकी सराहना से अभिभूत हूँ ,सादर नमन |

  8. होली की बधाई के साथ सुन्दर हाइकु लिखने वाले सभी रचनाकारों को बधाई ।बहुत सार्थक और सुन्दर सन्देश देते हाइकु बहुत अच्छे लगें हैं ।जैसे: – त्यागो अहं को/ होली के दिन चार / खेलो हँस लो।—भूले शत्रुता / मिले अपनापन/आया फागुन।—प्रेम के संग/ पौधे फूल भेंट हों/ असली होली ।
    कमला

  9. Holi par likhe gaye rang birange haiku bahut achhe lage sabhi ko meri hardki badhai…

  10. खेलती होली
    इंद्रधनुषी किरणे
    मेघों के संग

    बहुत प्यारा हाइकु

  11. बहुत सुन्दर सन्देश देते हाइकु ।—…आदरणीय डॉ. वर्मा जी , सिम्मी भाटिया जी एवं सुनीता शर्मा जी को हार्दिक बधाई !

  12. holi ke rang birange haiku bahut sundar hain . Sabhi ko HOLI ki bahut bahut badhai

    Dr. Surendra Varma ji ne bahut sahi baat kahi, aaj ke halaat me iski bahut jarurat hai . hamare andar ki taralta kahin khoti jaa rahi hai, us par dhyan dene ki bahut jarurat hai

    सूखने न दें
    नदी है जो भिगोती
    हमारा मन

  13. बहुत मनभावन हाइकु…बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: