Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | जनवरी 17, 2016

1557


1-अनिता ललित

18-ANITA LALIT1

धुन्ध ने तानी

सुरमई चादर

दिन बेमानी।

2

भुनभुनाए

मुँह ढाँपे सूरज

जाग न पाए।

3

दिन बच्चा-सा

सहमा हुआ ढूँढे

धूप-अम्मा को।

4

 सूर्य-महात्मा

बैठा दूर गगन

ध्यान-मगन।

5

खोजे सूरज

पहन स्कार्फ़ स्लेटी

धूप की बेटी।

6

बेकल पंछी

मुँडेर पे फुदकेँ

ढूँढे ठिकाना।

7

याद तुम्हारी

सर्द हवा-सी आती

टीस जगाती।

-0-

2-मंजूषा ‘मन

मजूशा दोशी1

ठण्ड बजाती

पसलियों  की झांझ

दन्त मंझीरा।

2

शिशिर ऋतु

ठिठुरी हुई रातें

जली अँगीठी।

3

पूस की रात

कथरी में ठिठुरे

गरीब जात।

4

गर्म रजाई

बना अपनी साड़ी

माँ ने उढ़ाई।

-0-

3-गुंजन अग्रवाल

1

सोता ही रहा

कोहरे को लपेट

ठण्ड में सूर्य।

2

उकड़ू बैठी

शीत हवा से डर

बेचारी धूप।

3

मेघ टुकड़ा

ओजस्वी सूर्य ढक

शिशु– सा हँसा।

-0-

Advertisements

Responses

  1. मंजूषा जी, गुंजन जी ….बहुत सुंदर हाइकु !
    आप दोनों को हार्दिक बधाई !
    मेरे हाइकु को यहाँ स्थान देने के लिए संपादक द्वय का हृदय से आभार!

    ~सादर
    अनिता ललित

  2. बहुत सुन्दर रचनाएँ
    सभी को शुभकामनाएँ

  3. बहुत सुन्दर मनमोहक हाइकु!
    अनिता जी, मंजूषा जी, गुंजन जी…. बहुत बधाई!

  4. आपके सर्दी से जुड़े सभी हाइकु बेहद उम्दा हैं। अनिता ललित जी , मंजूषा ‘ मन ‘ जी और गुंजन अग्रवाल जी बधाई स्वीकारें। ‘ सर्द मौसम / छप्पर न नसीब / दुखी गरीब। “

  5. मोहक हाइकु !
    सर्दी पर सुंदर ,भावप्रवण प्रस्तुति के लिए सभी हाइकुकारों को बहुत बधाई !!

  6. वास्‍तव में बहुुत ही मोहक हाइकु ।एक से बढ़ कर एक हाइकु । सभी हाइकुकारों को हार्दिक बधाई।
    अनिता ललित, गुंजन अग्रवाल, मंजूषा ‘मन’ आप सभी के हाइकु पढकर मन बहुत ही प्रसन्‍न हुआ ।कल्‍पना के पँखों की कोई सीमा नहीं होती है।

  7. अनीता जी, मञ्जूषा जी, गुँजन जी बहुत उत्कृष्ट हाइकु सृजन की बधाई।

  8. सभी के हाइकु बहुत भावपूर्ण. सभी को बधाई.

  9. Bahut khub!meri badhai

  10. बहुत मनोहारी हाइकु…सभी को हार्दिक बधाई…|

  11. सुन्दर हाइकू अनिता जी, गुंजन जी सुन्दर। हार्दिक बधाई।

  12. आप सभी का हार्दिक आभार हमारे प्रयास को पसन्द करने के लिए।

    आभार

  13. आप सभी का हार्दिक आभार हमारे प्रयास को पसन्द करने के लिए।

    आभार

  14. Bahut sundar haiku!
    Anita ji, Manjusha ji aur Gunjan ji shubhkaamnaayen!

  15. अनीता जी ,मंजूषा जी और गुंजन जी आप सभी को सर्दी के हर अहसास को दर्शाते हाइकु रचने पर हार्दिक बधाई .

  16. सभी के हाइकु बहुत भावपूर्ण…………सभी को शुभकामनाएँ


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: