Posted by: डॉ. हरदीप संधु | जनवरी 11, 2016

1554


1-कमला निखुर्पा

1

सुर के साज

बजाने लगे पत्ते

हवा साजिंदा ।

2

मर्मर धुन

भँवर गुनगुन

शुभ शगुन ।

-0-

2- प्रियंका गुप्ता

1

गीला तकिया

ख़्वाब में फिर कोई

बिछड़ गया ।

2

रिश्तों पे धूल

पहले साफ़ करो

मन की गर्द ।

3

पुरानी यादें

बाँह थाम खींचती

अपनी ओर ।

-0-

3-डॉ०पूर्णिमा राय

1

बेबाक हँसी

झरने की तरह

बहते आँसू।

2

हँस दो तुम

खिल जाए ये मन

कष्ट– विहीन।

3

मन्द मुस्कान

अधरों की लालिमा

पास बुलाए।

4

धीरे से आना

सुरभित पवन

कम्पित ओष्ठ।

5

मुक्त जीवन

हँसने को आतुर

उड़ना मुझे।

-0-

Advertisements

Responses

  1. मेरे हाइकु यहाँ देख कर हमेशा की तरह बहुत अच्छा लगा…| आभार…|
    कमला जी और पूर्णिमा जी, बहुत मनोहारी हाइकु हैं…| आप दोनों को हार्दिक बधाई…|

  2. गहन ..सारगर्भित हाइकु …………. हार्दिक बधाई…|

  3. कमला जी ,प्रियंका जी और डॉ पूर्णिमा जी को मनभावन हाइकु सृजन के लिए ह्रदय से बधाई |

  4. कमला जी ,प्रियंका जी और डॉ पूर्णिमा जी को हार्दिक बधाई।

  5. आप सभी की
    बेहद उम्दा हाइकु-रचनाओं
    को पढ़कर
    सुकून मिला ।
    हार्दिक बधाई व
    विनम्र प्रणाम स्वीकारें ।

  6. मनभावन हाइकु ! कमला निखुर्पा जी ,प्रियंका जी और डॉ पूर्णिमा को हार्दिक बधाई।

  7. sunder bavpurn haiku kamla ji priyanka ji purnima ji bahut bahut badhai

  8. Bahut achhe lage sabhi haiku sabhi rachnakaron ko meri badhai..

  9. सुर के साज
    बजाने लगे पत्ते
    हवा साजिंदा ।

    अति मोहक बिंब ! बधाई कमला जी।

    गीला तकिया
    ख़्वाब में फिर कोई
    बिछड़ गया ।

    भावपूर्ण, सुंदर हाइकु के लिए बधाई प्रियंका जी।

    पूर्णिमा जी के हाइकु भी पसंद आए।

  10. बहुत सुन्दर हाइकु…्सभी रचनाकारों को बधाई !

  11. सारे हाइकु बहुत सुन्दर हैं.
    कमला जी ,प्रियंका जी और डॉ पूर्णिमा जी को हार्दिक बधाई।
    ‘गीला तकिया
    ख़्वाब में फिर कोई
    बिछड़ गया ।’….अद्भुत! शब्दातीत!

  12. sabhi haiku sunder hain, kamla ji priyanka ji va purnima ji ko badhai .
    pushpa mehra

  13. कमला जी के सुर के साज, प्रियंका जी की पुरानी यादें,और डा.पूर्णिमा की बेबाक हंसी —
    क्या कहने ! बधाई.
    सुरेन्द्र वर्मा

  14. बहुत सुंदर हाइकु ! विशेषकर–
    गीला तकिया/ख़्वाब में फिर कोई/बिछड़ गया ।–मन को बहुत गहरे छू गया।
    हार्दिक बधाई कमला जी, प्रियंका जी एवं डॉ. पूर्णिमा जी।

    ~सादर
    अनिता ललित

  15. कमला जी बहुत सुन्दर हैं संगीत भरे हाइकु ।और प्रियंका जी बहुत सुन्दर लगा ….पुरानी यादें/ बाँह थाम खींचती /अपनी ओर । पुर्णिमा जी बहुत सुन्दर बिम्ब … बेबाक हँसी /झरने की तरह / बहते आँसू। बधाई आप तीनों को ।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: