Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | दिसम्बर 3, 2015

1536


अनिता मंडा

1

शब्दों के बाण

विचारों की प्रत्यंचा

करे संधान।

2

बैठ चहके

सपनों की मुँडेर

आस का पंछी।

3

निर्मल धूप

लिखे अँधेरों पर

उजला रूप।

4

अक़्ल की सुई

पिरो सोच का धागा

रिश्ते सिलती।

5

कच्ची पड़ती

विश्वास – नींव जब,

रिश्ते दरकें।

6

जलाके सेकें

उम्मीद के कोयले

स्वप्न हथेली।

7

टूटे बटन

खुशियों की कमीज़

कैसे पहनें।

8

रोप दूँ स्वप्न

उर्वर हिय -रज

सींचती आस।

9

भू का अँचरा

हुआ है हरा-भरा

धन्य बदरा ।

10

टूटा वीराना

फिर आबाद हुआ

ये आशियाना।

11

ओस चूमने

सुनहरी किरणें

लगी बढ़ने।

12

गर्म हाथ से

सहलाती है धूप

ले माँ का रूप।

-0-

Advertisements

Responses

  1. आदरणीय संपादक द्वय मेरे हाइकु को यहाँ स्थान देने पर आभारी हूँ।

  2. अनीता जी भाव पूर्ण हाइकू ।

    टूटे बटन

    क्या बात है। बधाई

  3. अनीता मंडा के सबही हाइकु बहत सुन्दर, भावपूर्ण और विचारोत्तेजक | एक से बढकर एक |बधाई. -सुरेन्द्र वर्मा

  4. बहुत सुन्दर और भावप्रवण हाइकु हैं…हार्दिक बधाई…|

  5. बहुत सुन्दर अनिता मण्डा जी

  6. हाइकु… बहत सुन्दर और विचारोत्तेजक | एक से बढकर एक-

    गर्म हाथ से
    सहलाती है धूप
    ले माँ का रूप।

    क्या बात है। बधाई अनिता मण्डा जी…

  7. मनोहारी बिंब लिए अति सुंदर हाइकु ! बधाई स्वीकार करें अनिता

  8. अनीता जी सुन्दर शब्दों में रचे हाइकू हैं हार्दिक बधाई .

  9. sabhi haiku bahut hi sunder hain ,anita ji badhai.

    pushpa mehra

  10. Bhavpurn bahit bahut badhai..


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: