Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अक्टूबर 26, 2015

1512


26

Advertisements

Responses

  1. यह नियति भी कैसे कैसे रंग दिखाती है…| बहुत अर्थपूर्ण हाइकु…हार्दिक बधाई जेन्नी जी…|

  2. जेन्नी जी सभी हाइकु भाव पूर्ण हैं | नियती ही जीवन है यही समझाते हैं | कैसे परखें /नियति का लेखा/ है अनदेखा | वाकई किसी को पता नहीं नियति क्या रंग दिखाए | आपको हार्दिक बधाई |

  3. भाव पूर्ण हाइकु जेन्नी जी। बधाई स्वीकार करें।

  4. सभी हाइकु गहराई लिए हुए उत्कृष्ट

  5. नियति खेले
    अनोखे खेल जग
    आया भूकंप।। डॉ०पूर्णिमा

    डॉ०शबनम आपके हाइकु नियति की बोलती कथा ब्याँ कर रहे।बधाई।।

  6. bahut khub! bahut bahut badhai..

  7. jenni ji niyati kitni bhi magroor ho apke shabd -pash me.n to bandh hi gayi| sunder haiku, badhai.
    pushpa mehra.

  8. बहुत सुन्दर हाइकु…. बधाई जेन्नी जी।

  9. बहुत सुन्दर भाव पूर्ण हाइकु ! डॉ.जेन्नी शबनम आपको हार्दिक बधाई |

  10. niyati chakr par bahut sundar haiku ..badhaii jenni ji !

  11. sundar kalaatmk prastuti bahan hardeep ji ..badhaii !


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: