Posted by: हरदीप कौर संधु | अक्टूबर 22, 2015

1509


1-पुष्पा मेहरा 

1

छिपा रावण

मन  की शिला – ओट

दिखे तो मारें ।

2

मन -रावण

वासना सूपनखा

करें दमन।

3

रोशनी छले

स्वार्थ के दीप तले

रावण पले ।

4

कितने जले

पुतले रावण के

जला ना छल।

5

शापित जन्म

भक्ति –आसक्त मन

मोक्ष था  अंत।

6

कुचक्र – घिरा

ज्ञान दश शीशों का

अकेले धार ।

7

सुधा – कलश

फूटा एक तीर से

जीत ली मुक्ति ।

-0-

2-अनिता मण्डा

1

देखता रहा

एक खोह में बैठा

भोर की राह।

2

सूरज आया

लहरों में नहाके

रूप सजाया।

3   

सूरज उगा

भँवर को फिर से

देकर दग़ा।

4

पानी में डूब

फिर से गया बुझ

अब सूरज।

5

नीला आसमाँ

हरी-हरी -सी घास

जीने की आस।

6

एक चट्टान

बहे नदी की धारा

सह ले सारा।

7

स्वतंत्र पंछी

गाते मधुर गान

ऊँची उड़ान।

8

शांत सागर

झिलमिल सितारे

रूप निहारें।

9

हुई उदास

तपती दुपहरी

लगी है प्यास।

10

चाहें देखना

दिन में जुगनू को

जिद्दी बालक।

11

बूढ़ा सुमेरू

कन्धों पर झुलाये

झील कन्या को।

12

जलाते आए

सदियों से रावण

जलता क्यों न।

-0-


Responses

  1. बेहतरीन हाइकु के लिए बहुत बधाई…|

  2. कितने जले
    पुतले रावण के
    जला ना छल।
    पुष्पा मेहरा

    जलाते आए
    सदियों से रावण
    जलता क्यों न।
    अनिता मंडा
    सभी बहुत सुंदर हाइकु -अपनी अपनी बात कहते हुए …बधाई व शुभकामनायें !

  3. ek chattan \bahe nadi ki dhara \sah le sara. anita ji prakriti ke madhyam apne parivar aur rishton ki dridhta ka laxnik chitr abhilaxit kiya hai. bahut hi pyara haiku ,badhai.
    pushpa mehra.

  4. बहुत खूब हाइकु पुष्पा जी और अनीता जी

    बधाई आप दोनों को।

  5. बहुत बहुत खूब हाइकु पुष्पा जी एवम् अनीता जी

    बधाई स्वीकार करें।

  6. पुष्पाजी आपके सारे हाइकु बहुत अच्छे लगे।विशेष

    रोशनी छले
    स्वार्थ के दीप तले
    रावण पले । शुभकामनाएँ।

    मेरे हाइकु को स्थान देने व सराहने हेतु आभार।

  7. पुष्पा जी अनीता जी लाजवाब हाइकु।
    बधाई स्वीकारें।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: