Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अक्टूबर 7, 2015

सुधियों की कहानी


1-अनिता ललित

1

खोई है चाह

काँटों में उलझ के

भटकी राह।

-0-

2-कमला निखुर्पा

1

सुनाती रही

सुधियों की कहानी

रात सयानी।

2

रात की बात

चाँद तारों के संग

हो मुलाक़ात ।

3

गहन निशा 

सुनहरी-सी हँसी

पूनो है खिली ।

4

रजनी संग

उतरी स्वप्न -परी

नैन- नगरी।

-0-

3-मंजूषा ‘मन’

1

नीरव बहे

कल कल ये जल

जीवन- धारा।

2

लगें सुहाने

दूर बजते ढोल

बड़ी है पोल।

3

राह ढूँढता

मरुथल का राही

चलना ही है।

4

अप्रैल फूल

जीवन तो है यही

बनते रहें।

5

तेरी यादों का

ये ज़ख्म रहे ताज़ा

मिटने न दूँ।

6

जीवन जैसा

ज़हर नहीं कोई

पीना ही होगा।

7

पूर्णविराम

जीवन -गाथा पर

अनजाने ही।

8

पलकों खुभी

सपनों की किरचें

खून के आँसू

-0-

Advertisements

Responses

  1. सुन्दर हाइकू अनीता ललित जी। बधाई

    कमल जी सुन्दर हाइकू । अति सुन्दर

    सुनाती रही
    सुधियों की कहानी
    रत सयानी।

    क्या बात है वाह

  2. सुन्दर रचनाएं!
    अनिता जी, कमला जी और मञ्जूषा जी शुभकानाएं!

  3. सुंदर, भावपूर्ण हाइकु ! हार्दिक बधाई कमला जी, मंजूषा ‘मन’ जी !
    हमारे इकलौते हाइकु को यहाँ स्थान देने का सम्पादक द्वय का हृदय से आभार !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

  4. अनिता जी इकलौता हाइकु लाजवाब।कमला जी
    मञ्जूषा जी बेहद अच्छे हाइकु। आप तीनों को बधाई।

  5. बहुत सुन्दर ,मोहक हाइकु …
    अनिता जी , कमला जी एवं मंजूषा जी को हार्दिक बधाई !

  6. manmohak haiku ….anita ji ,kamla ji evam manjusha ji ko haardik badhai

  7. सुनाती रही सुधियों की कहानी…..मनमोहक हाईकु.
    अप्रेल फूल ….अचछा लगाअनिता जी कमला जी मंजूषा जी बधाई.

  8. बहन निखुर्पा के हाइकू पढ़े। पहला हाइकू सुन्दर है. भगवतशरण अग्रवाल

  9. sbhi haaiku utkrisht
    badhai

  10. अनिता ललित का एकमात्र हाइकु अपने सौन्दर्य के लिए किसी अन्य हाइकु की अपेक्षा ही नहीं करता | कमला निखुर्पा का हाइकु ‘सुनाती रही..’ तथा मंजूषा मन का पहला हाइकु ‘नीरव बहे…’ भी प्रथम श्रेणी के हाइकु हैं.| तीनों महिला हाइकुकारों को बधाई और अभिनन्दन| सुरेन्द्र वर्मा

  11. अनिता जी एकमात्र हाइकु पूर्णरूप से भावो को दर्शाता है | कमला जी के भी सभी हाइकु रजनी के अनेक रूप दर्शाते हैं | मंजूषा जी आपके भी हाइकु भाव् पूर्ण हैं | नीरव बहे ….बहुत खूब रचा है |आप तीनों को हार्दिक बधाई |

  12. अनिता जी , कमला जी एवं मंजूषा जी सभी के हाइक़ु भावपूर्ण तीनों को हार्दिक बधाई !

  13. अनिता ललित,कमला निखुर्पा और मंजूषा ‘मन’ आप सब के हाइकु नयी कल्पना और भाव लेकर आये ।बहुत सुहाये ।हार्दिक बधाई।रजनी संग /उतरी स्वप्न परी/नैन नगरी बहुत खूब लगा ।मंजूषा जी जीवन जैसा/ जहर नही कोई/ पीना ही होगा ।और अनिता आप के एक ही हाइकु ने मन मोह लिया ।सब को बधाई ।

  14. बहुत सुन्दर ,मोहक हाइकु …
    अनिता जी , कमला जी एवं मंजूषा जी को हार्दिक बधाई!!!!

  15. Sabhi haiku bahut achhe hain meri badhai..

  16. bahut sundar haiku bahut sari badhai..

  17. सभी हाइकु बहुत सुन्दर…हार्दिक बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: