Posted by: डॉ. हरदीप संधु | सितम्बर 25, 2015

आ जाओ घर


 1-अनिता मण्डा

1

महल वाले

घर की आरज़ू में

जिए जाते हैं।

2

माँ की आँखें

लगी हैं राह पर

आ जाओ घर।

3

स्याह रात में

उजाला है घर में

जगी होगी माँ।

4

बुझा सा चूल्हा

कहता है घर की

सारी दास्तान ।

5

मेरा मकान

तुमसे मिलकर

हो गया घर।

6

चोंच में रोटी

घर मुँडेर पर

चिड़िया बैठी।

7

मुझसे हुआ

ये घर अजनबी

हँसी सहमी।

8

शीशे का घर

रहता है सहमा

देख पत्थर।

9

दिल में घर

मिल जाये अगर

कुछ न चाहूँ।

10

खोखला करें

दीवारों में दरारें

बढ़ने न दो।

11

प्रेम से सींची

गहरी बुनियादें

थामे हैं यादें।

-0-

2-अमन चाँदपुरी

1

आप का आना

मेरे द्वार का हुआ

गंगा नहाना।

2

काँटे चुभाए

नागफनी का पौधा

फिर भी भाए।

Advertisements

Responses

  1. दिल में घर
    मिल जाये अगर
    कुछ न चाहूँ।

    काँटे चुभाए
    नागफनी का पौधा
    फिर भी भाए।
    Bahut sunder haiku hain.
    Badhai,
    Amita

  2. अनीता जी “दिल में घर” बहुत खूब !! बधाई भावपूर्ण हाईकू सृजन!!

    अमन जी “नागफनी का पौधा “खूबसूरत सृजन

  3. sundar haiku!

  4. सुन्दर हाइकु ….
    जगी होगी माँ ,दिल में घर और नागफनी का पौधा बहुत ही अच्छे लगे !
    अनिता जी ,अमन जी को बहुत बधाई !

  5. स्याह रात में ,प्रेम से सिंची उम्दा हाइकु अनीता जी बधाईयाँ एवं शुभकामनाये
    अमन जी नागफनी के पौधे सुन्दर अभिव्यक्ति बधाई एवं शुभकामनाये 🙂

  6. प्रतीकात्मक
    सुंदर हाइकु ।

  7. अमन जी अर्थपूर्ण हाइकु अच्छे लगे बधाई।

    मेरे हाइकु की सराहना हेतु हार्दिक आभार।

  8. अनिता मण्डा जीऔर अमन चाँदपुरी जी आज के आप दोनों के हाइकु बहुत अच्छे लगे हार्दिक बधाई। बहुत अच्छा लगे स्याह रात में / उजाला है घर में / जगी होंगी माँ ।बच्चों केइन्तजार में माँ का जागना यथार्थ अभिव्यक्ति ।अमन जी का … द्वार का गंगा नहाना भी बहुत सुन्दर कथन लगा ।ग

  9. sabhi haiku mamta , prem aur sauhard ki neenv par khade hone ki bhawna se bhare hain. anita ji aur aman ji ko badhai.
    pushpa mehra

  10. अनीता जी शीशे का घर….ने मन को छुआ बधाई अमन जी आपको भी बधाई .

  11. सभी हाइकु गहराई लिए हुए
    आप दोनों को बधाई .

  12. स्याह रात में
    उजाला है घर में
    जगी होगी माँ।
    काँटे चुभाए
    नागफनी का पौधा
    फिर भी भाए।
    bahut sunder haiku badhai aapdono ko
    rachana

  13. अपने घर जैसी स्वर्गिक जगह तो कोई होती ही नहीं…| इस विषय पर इतने मनभावन हाइकु पढ़ के दिल खुश हो गया|
    हार्दिक बधाई…|

  14. स्याह रात में
    उजाला है घर में
    जगी होगी माँ।

    Bahut bhavu kar dene vala haiku meri shubhkamnayen..
    आप का आना
    मेरे द्वार का हुआ
    गंगा नहाना।
    sundar! meri badhai..

  15. स्याह रात में
    उजाला है घर में
    जगी होगी माँ।
    काँटे चुभाए
    नागफनी का पौधा
    फिर भी भाए। man ko lubhane wale samvedatmak haiku !,anita ji evam aman ji ko badhai !

  16. दिल में घर
    मिल जाये अगर
    कुछ न चाहूँ।

    काँटे चुभाए
    नागफनी का पौधा
    फिर भी भाए।……….बहुत सुन्दर हाइकु…आप दोनों को बहुत बधाई।

  17. सुन्दर हाइकू
    बधाई एवं शुभकामनायें


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: