Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | मई 29, 2015

टूटता तारा


अनीता मंडा

1अनीता मंडा

पूनम रात,

मुँह फुलाये चाँद,

जिद्दी बालक।

2

अरसा बीता,

कहने की कोशिश,

लम्बी ख़ामोशी।

3

यादों की गंगा,

लगाकर डुबकी,

पवित्र मन।

4

टूटता तारा ,

माँगा मन में कुछ,

मूँद के आँखें ।

5

हाँक ले जाता,

चाँद गड़रिये– सा,

तारों की भेड़े

6

झील किनारे,

चमकती चाँदनी,

पैरों के निशाँ

7

क्षितिज पर,
ढल रहा सूरज,
ख़्वाब देकर।

8

रख दी आँच,
ढलते सूरज ने,
आँखों में तेरी।

9

उड़े परिंदे,
इन्तजार में शाख़ें,
पथ निहारें।

10

घोर अँधेरा,
चेहरे पे चेहरा,
असली कौन?

11

हिली टहनी,
उड़ गया परिन्दा,
छोड़ प्रतीक्षा।

12

चिड़िया प्यारी,
फुदककर गई,
दाना ले आई।

13

कश पे कश,
जिंदगी पर भारी,
नशा लाचारी।

14

बोलती आँखें,
ख़ामोश-सी लड़की,
थी कुछ बात।

15

गहरी आँखें,
पलकों पे उजाले,
सजाती रही।

16

उदास आँखें,
ढूँढती थी जवाब,
पूछ न सकीं ।

-0-

जन्म: 20 जुलाई,1980

जन्म स्थान: सुजानगढ़ ,राजस्थान

शिक्षा:स्नातकोत्तर-(हिन्दी,इतिहास)

लेखन:-स्वतंत्र लेखन।

anitamandasid@gmail।com

Advertisements

Responses

  1. bahut sundar rachnaayen, Anita ji!
    Welcome to Hindi-Haiku!!

  2. हाइकु परिवार में आपका स्वागत है… अनीता मंडा जी!
    बहुत सुंदर हाइकु! भावपूर्ण अभिव्यक्ति के लिए आपको हार्दिक बधाई!

    ~सादर
    अनिता ललित

  3. ‘मुँह फुलाए चाँद ‘ , ‘यादों की गंगा ‘ , ‘टूटता तारा ‘ ,हाँक ले जाता ‘ ,’घोर अँधेरा’ …क्या कहिए ..एक – एक हाइकु सुन्दर ,मोहक ! इतनी सुन्दर रचनाओं के साथ उपस्थिति पर हार्दिक बधाई ..अभिनन्दन अनीता मंडा जी !!

  4. हाइकु परिवार में स्थान देने के लिए हार्दिक आभार।
    आपकी टिप्पणियों ने उत्साह बढ़ाया है स्नेह बनाए रखना,धन्यवाद।

  5. आपके बेहतरीन हाइकुओं ने मन मोह लिया….. हार्दिक बधाई!
    हाइकु परिवार में आपका स्वागत है।

  6. गहरी आँखें,
    पलकों पे उजाले,
    सजाती रही।
    sunder likha hai bahut bahut svagat hai haiku parivar me
    rachana

  7. अनीता जी ने हाइकुओं द्वारा सुन्दर भाव अभिव्यक्त किए है।
    मेरी ओर से अनीता जी को हार्दिक बधाई।

  8. आप जुड़े रहिए इस परिवार से । आपकी उन्नति में ही हमारी उन्नति और खुशी है।

  9. अनीता मंदा जी आपको इतने भावपूरित हाइकु लिखने के लिए हार्दिक बधाई |संख्या १० हाइकु ने विशेष मन को छुआ |

  10. सभी हाइकु बहुत अच्छे लगे । अनीता मंडा जी को बधाई और शुभकामनाएं !

  11. kafi achhe haiku hain meri badhai…

  12. हाँक ले जाता,
    चाँद गड़रिये– सा,
    तारों की भेड़े
    कितना सुन्दर…|
    आपका लेखन बहुत सधा हुआ और सुन्दर है अनीता जी…मेरी शुभकामनाएं और बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: