Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | मई 16, 2015

मन उदास


1-सावित्री चन्द्र

1

बेटी है नूर

खुदा की खुदाई का

बन्दगी करो ।

2

पांचाली एक

दु:शासन  अनेक

कृष्ण न कोई ।

3

उनकी गली

जाने किस-किस की

बिटिया जली ।

4

झाँसी की रानी

जब-जब भी लड़ी

अकेली पड़ी ।

5

मन उदास

सूनी सूनी डगर

पी नहीं पास ।

6

डूबती नाव

कब लगेगी पार

कौन से गाँव ?

-0-

2- मंजु  गुप्ता

1

दहकी गर्मी

ले आँधी – लू की सेना

अंगारे दागे।

2

तपे धरती

आग – बबूला सूर्य

कहर ढाए ।

3

प्यास के मारे

व्याकुल  प्राणी सारे

मिले न पानी।

-0-

Advertisements

Responses

  1. सुन्दर हाइकु ! दोनों रचनाकारों को हार्दिक बधाई !

  2. पांचाली एक
    दु:शासन अनेक
    कृष्ण न कोई ।
    Sach se lipta haiku bahut bahut badhai…

  3. दहकी गर्मी
    ले आँधी – लू की सेना
    अंगारे दागे।
    Bahut sundar bahut bahut badhai…

  4. झाँसी की रानी
    जब-जब भी लड़ी
    अकेली पड़ी ।
    बहुत सच है ये…| हार्दिक बधाई…|
    सभी हाइकु बहुत पसंद आए…| बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: