Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | अप्रैल 28, 2015

टूटे सपने


1-हरकीरत हीर

1

हिला नेपाल

मलबों में तब्दील

हाल -बेहाल। 

2

दहला गयी

धरती रूप दिखा

मानव काँपा ।

3

कैसी त्रासदी

ढही इमारतें

हुई तबाही। 

4

कैसे ये फेर

पल में लग गए

लाशों के ढेर ।

5

टूटे सपने

बिछड़ गए अपने

माँ ! कैसा क्रोध ?

6

धधकी छाती

क्रोधित धरती की

फूटा आक्रोश। 

7

क्रोधित धरा

रह -रह काँपती

हमें चेताती। 

8

देख कम्पन

थर्रा उठा मानव

करे क्रंदन। 

9

ये ज़लज़ले

कुदरत की मार

सभी  लाचार। 

10

थर्राई ज़मीं

उजड़े घर -बार

आँखों में नमी। 

11

दम्भी इंसान

कुदरत के आगे

फिर लाचार।

12

धरती काँपी

मची है त्राहि -त्राहि

हवा भी रोई ।

13

काल के गर्भ

समा गया पल में

फटा हृदय ।

14

धरती हिली

हज़ारों चीखें दबीं

मलबे तले ।

15

रब्ब कैसा ये

तेरा क्रूर मज़ाक

हो गया ख़ाक़ ।

-0-

2-सुदर्शन रत्नाकर

1

भृकुटि तान

किया है सर्वनाश

रूठी धरा ने ।

2

फूटा जो क्रोध

वसुधा की कोख से,

दहला दिया ।

3

क्रोध जलाए

प्यार आग बुझाए

कर चुनाव ।

-0-

Advertisements

Responses

  1. भृकुटि तान
    किया है सर्वनाश
    रूठी धरा ने ।

    sunder sarthak ……

  2. सचमुच! दिल दहला गया प्रकृति का ये क्रोध!
    अब तो हमें चेत जाना चाहिए …
    सभी हाइकु अतिसुन्दर, मर्मस्पर्शी।

    हार्दिक बधाई हीर जी, सुदर्शन दीदी !

    ~सादर
    अनिता ललित

  3. व्यथा-कथा कहती भावपूर्ण रचनाएँ!
    हरकीरत जी, सुदर्शन जी शुभकामनायें!

  4. सुन्दर सार्थक हाइकु!
    सुदर्शन जी, हरकीरत जी….बधाई।

  5. sabhi haiku marmsparshee….haardik badhai harkeerat ji tatha ratnakar ji .

  6. Bahut khub! hardik badhai…

  7. दिल दहला देने वाली त्रासदी का मर्मस्पर्शी चित्रण…| बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: