Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अप्रैल 2, 2015

आँखों में बादल


1-अनिता ललित

1

जिद्दी बादल

सूर्य पर लपकें

नभ को घेरें ।

2

कैसी है पीर

बरखा दीवानी क्यों

हुई अधीर ।

3

घिरे बादल

सूर्य ने आँखों में ज्यों

आँजा काजल ।

-0-

2-हरकीरत हीर

कैसी ये रात !

[ठहरी सी ख़ामोश रात जब नज़्मों से भरी हो …ऐसे में भीतर बैठा दर्द ख़ुद ब ख़ुद कलम ढूँढने लगता है … शब्द जगह तलाशते हैं …. फिर वो नज़्म हो या हाइकु किसी भी रूप में सफ़होँ पर उतर आते हैं …ऐसी ही करवट बदलती रात में जन्में कुछ हाइकु ……. ]

1

स्याह रात में

रही दर्द टाँकती

ख़ामोश रात ।

2

दिल की हूक

कोरों से बह गई

बन के मूक ।

3

तन्हा तन्हा सी

पलकों से रूठी

ठहरी रात।

4

बता दे कोई

निंदिया की पहेली

अखियाँ बोलीं।

5

काटे न कटे

ठहरी ठहरी सी

ये लम्बी रात।

6

तू जो है साथ

कट जाएगी , नज़्म

ये लम्बी रात ।

7

लिख दे कोई

भीगी सी पलकों पे

नज़्म सुहानी।

8

मीठी मीठी सी

तेरी यादों संग है

निंदिया हँसी।

9

सुन री रात!

पलकों पे लिख दे

मीठी- सी बात।

10

आँखों आँखों में

यूँ बीत गई रात

यादों के साथ।

11

रात ये कैसी

घूँट -घूँट दर्द का

पिलाए जाम ।

12

कौन जाने ये

अँखियों में ठहरी

क्यूँकर रात ।

13

भोर सुहानी

उड़ा ले गई संग

आँखों का पानी।

-0-

Advertisements

Responses

  1. सभी हाइकु बहुत सुन्दर ….लेकिन …..

    ‘आँजा काजल’
    मोहक बहुत है
    रात की अदा ….हार्दिक बधाई अनिता जी , हीर जी !!

  2. सभी बेहद खूबसूरत, नाज़ुक अहसास!
    विशेष:
    जिद्दी बादल
    सूर्य पर लपकें
    नभ को घेरें ।
    और-
    स्याह रात में
    रही दर्द टाँकती
    ख़ामोश रात ।

  3. सभी हाइकु बहुत सुन्दर ! हार्दिक बधाई अनिता जी; हरकीरत हीर जी !

  4. sabhi haiku bahutsunder hain .anita ji va harkeerat heer i badhai.
    pushpa mehra.

  5. वाह! वाह! हीर जी ! दर्द को समेटे हुए… क्या सुंदर हाइकु हैं!
    एक हमारी तरफ़ से भी —

    ~पीर पिरोये
    रात के आँसुओं से
    नज़्म के मोती !~

    ~सादर
    अनिता ललित

  6. मेरे हाइकु को सराहने के लिए आप सभी का हृदय से आभार!

    ~सादर
    अनिता ललित

  7. मनोहारी हैं सभी हाइकु…गहरे भावों से ओतप्रोत…हार्दिक बधाई…

  8. स्याह रात में
    रही दर्द टाँकती
    ख़ामोश रात ।
    Bahut Khub! Aapke sabhi haiku bahut pasand aaye bahut bahut badhai

  9. sbhi ati uttm haiku

  10. अर्थपूर्ण, गंभीर भाव भरे सभी हाइकु सुन्दर…….
    जिद्दी बादल…..स्याह रात…बहुत अच्छे लगे|
    बधाई अनीता, बधाई हीर जी !!


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: