Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | मार्च 30, 2015

गुलाबाँस /कृष्णकेलि


  पुष्पा मेहरा  

गुलाबाँस 1

 ये  गुलाबाँस

 साँझ के साथ हँसे

 कैसी ये दोस्ती !

2

रातों उड़ी जो

मधुर गंध तेरी

किस ने पी ली !

3

मधु से भरे

ये नैन रतनारे

जो, रातों जगे ।

4

जग को जगा

चैन की नींद सोती

तू  कृष्णकेलि ।

5

औषधि दाता

 रंग, पुष्प-पर्ण तू

दान में देता ।

6

फूले जो फूल

ईं मधुमक्खियाँ

संझा को भूल ।

7

अँधेरे में भी

 निडर हो हँसती

संध्या मालती ।

7

छोटा -सा तन

फूल- शृंगार- भरा

  बढ़ता चला ।

 8

 गोधूलि बेला

 गोधूलि गोपाल तू

 ख़ुशी से फूला ।

-0-

 

Advertisements

Responses

  1. is fool ka naam gulaabaans hai phli baar pta chla …..

  2. Sundar haiku badhai…

  3. गुलाबाँस /कृष्णकेलि पर बहुत प्यारे हाइकु पुष्पा जी बधाई !

    रातों उड़ी जो
    मधुर गंध तेरी
    किस ने पी ली !…अति सुंदर !

  4. बहुत सुन्दर हाइकु हैं ….हार्दिक बधाई !

  5. रंग और खुशबू बिखेरते हाइकु ।

  6. saare man khilaate sundr haiku

  7. mere haiku ko blog mein sthan dene hetu abhar. harkeerat heer ji, mathur ji ,bhawana ji ,jyotsnaji,rekha ji manju va maneesh ji apne apani- apani pratikriya de kar mera protsahan badhaya atah ap sabhi ko dhanyavad.
    pushpa mehra.

  8. सुन्दर मनमोहक हाइकु |बधाई आपको |

  9. sunder sugandhit haiku
    badhai
    rachana

  10. बहुत मनोरम हाइकु !

  11. मनमोहक हाइकु…बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: