Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | जनवरी 7, 2015

सूरज उगा


 1-सुशीला शिवराण 

1

नए साल में

पूरे हों सब ख़्वाब

गए साल के।

2

दिल के रिश्ते

भले जग बदले

ये न बदलें।

3

विश्व-हाइकु

रत्न-गर्भा सागर

मोती गागर।

4

साथ तुम्हारे

रचें हाइकु प्यारे

साँझ-सकारे।

5

हाइकु जड़ी

सजी बंदनवार

मन के द्वार।

6

मन के बैन

गूँथूँ हाइकु हार

ऊषा या रैन।

7

सूरज उगा

समेट के चादर

कोहरा भगा।

-0-

2- शशि पुरवार

1

नया विहान

शब्दों का संसार

रचें महान  

2

झुकता नहीं

आएं लाख तूफ़ान

डिगता नहीं  

3

मन चंचल

मचलता मौसम

सर्द है रात  

4

नदिया तीरे

झील में उतरता

हौले से चंदा  

5

बिखरे मोती

धरती के अंक में

फूलों की गंध  

6

एक शाम

अटूट है बंधन

दोस्ती के नाम  

7

साथ तुम्हारा

महका तन मन

प्यार सहारा  

-0-

3-मीनाक्षी जिजीविषा

1

श्वेत वसना

ह्रदय को हमारे

निर्मल बना !

2

नूतन वर्ष

लाये अपने साथ

अपार हर्ष !

3

हमारा देश

सब हैं एक ;चाहे

अलग वेश

4

हर चुनाव

देश के सीने पर

देता घाव !

5

ये जिजीविषा

जीवन को है देती

जो नई दिशा !

6

आए खटास

संबंधों में पसरे

जो अविश्वास !

7

प्यार के बोल

ये तो हैं अनमोल

तू भी तो बोल !

8

समय कम

हर पल को जीयें

जी भर हम !

 

 

-0-

Advertisements

Responses

  1. बेहतरीन सृजन, सभी हाइकु सामयिक एवं बहुत सुन्दर ! आप सभी को हार्दिक बधाई एवं नववर्ष की शुभकामनाएं !

  2. लाजवाब हाइकु…. आप सभी को हार्दिक बधाई!

  3. सुन्दर भावों भरे बहुत सुन्दर हाइकु ..दिल के रिश्ते ,नया विहान , ये जिजीविषा …बेहतरीन !!!
    बहुत बधाई सुशीला जी , शशि जी एवं मीनाक्षी जी !!

  4. 1.मन के बैन

    गूँथूँ हाइकु हार

    ऊषा या रैन।(सुशीला शिवराण)
    2.नया विहान

    शब्दों का संसार

    रचें महान ।( शशि पुरवार}
    3.आए खटास

    संबंधों में पसरे

    जो अविश्वास !(मीनाक्षी जिजीविषा)
    सभी हाइकु सामयिक एवं बहुत सुन्दर,बहुत बधाई सुशीला जी , शशि जी एवं मीनाक्षी जी!

  5. sabhi haiku bahut achhe likhe hain sabko badhai.
    pushpa mehra.

  6. *ये जिजीविषा* *जीवन को है देती*
    *जो नई दिशा ! मीनाक्षी जी **दिल के रिश्**‍**ते* *भले जग बदले*
    *ये न बदलें।सुशीला जी *

    *आप दोनों के सभी हाइकु बहुत सुन्दर हैं , हार्दिक बधाई *

    *मित्रों आप सभी के स्नेह का तहे दिल से आभार। *

    2015-01-06 20:49 GMT+05:30 “हिन्दी हाइकु(HINDI HAIKU)-‘हाइकु कविताओं की वेब

  7. वाह! सभी हाइकु एक से बढ़कर एक!
    आप सभी को हार्दिक बधाई !

    ~सादर
    अनिता ललित

  8. sbhi mnbhaavan haaiku . badhaai

  9. नए साल में
    पूरे हों सब ख़्वाब
    गए साल के।

    नया विहान
    शब्दों का संसार
    रचें महान ।

    यार के बोल
    ये तो हैं अनमोल
    तू भी तो बोल !
    anmol haiku aaptino ko badhai
    rachana

  10. सभी के हाइकु बहुत अच्छे लगे विशेषकर विश्व हाइकु /रत्न गर्भा सागर ….,ये जिजीवषा ….हाइकु गहराई लिए हुए हैं |

  11. sunder v saamyik ….sushila ji ,shashi ji tatha meenakshi ji ko doil se badhai.

  12. दिल के रिश्‍ते
    भले जग बदले
    ये न बदलें।
    बिलकुल सही…|

    बिखरे मोती
    धरती के अंक में
    फूलों की गंध ।
    सुन्दर बिम्ब…|

    आए खटास
    संबंधों में पसरे
    जो अविश्वास !
    सच है यह…|

    सबको हार्दिक बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: