Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 18, 2014

मनकों –से ये रिश्ते


डॉ. सुषमा सिंह

1

माला जो टूटी

मनकों से ये रिश्ते

बिंध न सके ।

2

खारे आँसू

भी जाहिर करते हैं

मीठी-सी खुशी ।

3

यादों के गाँव

सौरभ– से महके

साथ जो पल ।

4

चढ़ा रखी है

तस्वीर पर माला

धूल तो देखो !

5

ठिठके मेघा

स्टैच्यू कह दिया हो

जैसे किसी ने।

6

राह दिखाओ

अरे ओ जुगुनुओ !

रात है काली ।

7

गन्दा हुआ

राजनीति का खेल

रेलमपेल ।

-0-

हिन्दी-विभागाध्यक्ष, आर बी एस कॉलिज , आगरा ; दूरभाष: 9358198345

 

 

 

 

Advertisements

Responses

  1. माला जो टूटी
    मनकों से ये रिश्ते
    बिंध न सके ।

    उम्दा हाइकु
    बहुत बहुत बधाई सुषमा जी 🙂

  2. सुन्दर हाइकु।

    ‘माला जो टूटी
    मनकों –से ये रिश्ते
    बिंध न सके ।’ -अतिसुन्दर

    ~सादर
    अनिता ललित

  3. ठिठके मेघा
    स्टैच्यू कह दिया दिया हो
    जैसे किसी ने।

    उत्कृष्ट हाइकु .
    स्टैच्यू अंग्रेजी शब्द का बढ़िया प्रयोग
    बधाई

  4. बहुत सुन्दर हाइकु बधाई सुषमा जी !

  5. चढ़ा रखी है
    तस्वीर पर माला…………

    बहुत बढ़िया लिखा है जी
    वाह! बधाइयाँ आपको

  6. सभी हाइकु बहुत उम्दा और भावपूर्ण. सही कहा – खारे आँसू सुख दुःख दोनों को अभिव्यक्त करते हैं.

    खारे आँसू
    भी जाहिर करते हैं-
    मीठी-सी खुशी ।

    सुषमा जी को बधाई.

  7. चढ़ा रखी है
    तस्वीर पर माला
    धूल तो देखो !
    kamal ka bhav hai badhai
    rachana

  8. राह दिखाओ

    अरे ओ जुगुनुओ !

    रात है काली ।

    अन्य हाइकु भी सुंदर।

  9. सुन्दर हाइकु…बधाई…|

  10. khoobsurat haiku……badhai sushma ji.


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: