Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 5, 2014

जीवन-बोध !


 डॉ जेन्नी शबनम

1

गुरु से सीखा

बिन अँगुली थामे

जीवन-बोध !

2

बढ़ता तरु,

माँ है प्रथम गुरु

पाकर ज्ञान !

3

करता मन

शत-शत नमन

गुरु आपको !

4

खिले आखर

भरा जीवन -रंग

जो था बेरंग !

5

भरते मान

पाते है अपमान,

कैसा ये युग ?

6

खुद से सीखा

अनुभवों का पाठ

जीवन गुरु !

7

भाषा व बोली

पास, पर समझ

गुरु से पाई !

8

ज्ञान का तेज

चहुँ ओर बिखेरता

गुरु दीपक !

9

प्रेरणा-पुष्प

जीवन में खिलाते

गुरु प्रेरक !

10

पसारा ज्ञान

दूर भागा अज्ञान

सद्गुणी गुरु !

-0-

Advertisements

Responses

  1. जेन्नी जी सभी हाइकु बहुत अच्छे लगे विशेषकर नंबर ६,७,८,९,१० .आपको हार्दिक बधाई |
    सविता अग्रवाल “सवि”

  2. Bahut Khub !

  3. सभी हाइकु बहुत सुन्दर !
    विशेषकर –
    ‘प्रेरणा-पुष्प
    जीवन में खिलाते
    गुरु प्रेरक !’

    ‘शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!’

    ~ सादर
    अनिता ललित

  4. bhasha va boli,pas ,par samajh , guru se pai. guru ke srishta bhav ko batati panktiyan . jenni ji apko badhai.
    pushpa mehra.

  5. गुरु के प्रति श्रद्धा से परिपूर्ण सुनदर हाइकु

    हार्दिक शुभ कामनाएँ …सादर नमन !

  6. करता मन
    शत-शत नमन
    गुरु आपको !
    सच में…|

  7. प्रेरणा-पुष्प

    जीवन में खिलाते

    गुरु प्रेरक !

    अन्य हाइकु भी सुंदर। बधाई जेन्नी जी !

  8. हाइकु की प्रसंशा के लिए आप सभी का दिल से धन्यवाद.


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: