Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 4, 2014

मन की मनमानी


1-डॉ.सुरेन्द्र वर्मा

1

जब भी मानी

मन की मनमानी

फल भुगता

2

साधे न सधे

भटकता भागता

अश्व -सा मन ।

3

समुद्र -तट                                                                                                     उफनती लहरें 

मन हमारा।

4

मन अन्दर

बसते विचार हैं

मन बेघर

5

मन– कोटर

भाव फड़फड़ाते

चाहें उड़ना

6

हिमालय के

त्तुंग शिखर -सा

मन अपना

7

रोए दुःख में

सहा न जाए सुख

कैसा तो मन !

8

द्वंद्व में मन

फँसा हो यदि, करे

कैसे स्मरण ?

-0-

[. तिरुवल्लुवर (प्रसिद्ध प्राचीन तमिल कवि ) के कुछ “कुरल” (दोहों )का हिंन्दी में हाइकु रूपांतरण- डा. सुरेन्द्र वर्मा]

1

सब नश्वर

बस विद्या शाश्वत

यही बचेगी

2

गहरा खोदो

पाओगे जल मीठा

कर्मठ ज्ञान

3

ढंग जीने का

सीखा जो पुस्तक से

उसे उतारो

4

विद्या सुख है

सात जन्म का सुख

यही प्राप्य है

5

नेत्र हैं ये दो

देखा करो इनसे

अंक, अक्षर ।

6

विद्वज्जन तो

हाँ कहीं भी रहें

घर उनका

7

जो बुद्धिहीन ।

यदि सुन्दर भी हों ।

मूर्ति– सरीखे।

-0-

vanashasth gautam2-वंशस्थ गौतम

1

छुपा रावण

हर-एक मन में,

करें दहन ।

2

दुःख व सुख

रहते आते-जाते

रहें मगन ।

3

बढ़े दिव्यता

हर-एक दिल में

करें जतन ।

4

प्रत्येक आत्मा

है परमात्मा-अंश

करें नमन ।

5

माँ की ममता

अतुल प्रेम मय

रहें निमग्न ।

6

स्वर्ग-नरक

हैं इसी जगत में

करें चयन ।

-0-

वंशस्थ गौतम ,युक्का २०६, पैरामाउंट सिम्फनी ,क्रॉसिंग रिपब्लिक

ग़ाज़ियाबाद ( उ. प्र. )

Advertisements

Responses

  1. सभी हाइकु अति सुन्दर हैं। डा. सुरेन्द्र वर्मा जी और वंशस्थ गौतम जी, सुन्दर सृजन के लिए हार्दिक बधाई !

  2. तिरुवल्लुवर के कुरल” (दोहों )की हिंदी अनुवाद मैने पढ़ा है.जीवन की गहनगम्भीर बात कही है , सुंदर हाइकु के लिए बधाई .
    प्रेरणादायक सुंदर हाइकु .

    वंशस्थ गौतम जी बधाई

  3. बहुत सार्थक..सुन्दर हाइकु…हार्दिक बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: