Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अगस्त 10, 2014

सज उठी कलाई


अनुपमा1-डॉ भावना कुँअर

1

बरसों सूनी

सज उठी कलाई

बहना आई।

2

परदेस से

मुस्कान संग लाया

भाई जो आया।

3

बहना आती

दुआओं से भरके

थाल सजाती।

4

दूर है भाई

राखी सजी थाल को

देख न पाई।

-0-

2-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

1

साँससाँस में

बँधी रेशमडोरी

टूटे कभी

2

पावन प्यार

भूले हैं बहनों का

पशु- पुरुष ।

3

धूलि हैं धन

जिसको मिली प्यारी

सच्ची बहन ।

4

पावन मन

प्राणों में बसी हुई

सभी बहन ।

5

जीवन जाए

किसी बहन पर

आँच न आए ।

-0-

3-डॉ सरस्वती माथुर

1

बहना बाँधे

भाई की कलाई पे

रिश्तों की डोर   

2

रेशमी धागा

आत्मीयता सहेज

रिश्तों में बांधा 

3

भाई का मन

झलकता आँखों से

रिश्ता पावन

4

प्रचंड धूप

घनी छाँव सा लगे

भाई का रूप

5

रेशमी डोरे  

बहना लेके आयी

बाबुल चौरे

6

धागे का साथ

कभी न छूटे भैया

बहना का हाथ

7

नेह अपार

घर आँगन आया

राखी त्योहार

8

राखी की डोर

बहिन ने बाँधी तो

भाई विभोर l

9

दुआ देता है

भाई का स्नेही मन

रक्षाबंधन l

10

भैया के मन

स्नेह स्मृतियाँ लाईं

राखी जो आई !

-0-

4-अनुपमा त्रिपाठी

1

भाई के घर

भेजूँ अपना प्यार

रेशम -डोरी ।

2

बहना भेजे

मिष्टि चन्दन-रोली

रक्षा की डोरी

-0-

5-ज्योत्स्ना प्रदीप

1

मन-नभ में

चाँद -सी राखी लाई

ये मधु-निशा।

2

राखी के मोती

फैलाए तेरे मन

स्नेह की ज्योति।

3

बँधे जब भी

राखी के दोनों छोर

पावन भोर।

4

स्नेह की आस

बनाए इतिहास

एक पल को।

5

बाँटे आशीष

ये अतिथि सावन

अंतिम दिन।

-0-

6-डॉ अमिता कौण्डल

1

स्नेहादर को ,

कच्चे धागे से बाँधे,

राखी का पर्व।

-0-

Advertisements

Responses

  1. परदेस से
    मुस्कान संग लाया
    भाई जो आया।
    ~~~~~~~~~~~~~~

    धूलि हैं धन
    जिसको मिली प्यारी
    सच्ची बहन ।

    जीवन जाए
    किसी बहन पर
    आँच न आए ।
    ~~~~~~~~~~~~~~~

    रेशमी डोरे
    बहना लेके आयी
    बाबुल चौरे
    ~~~~~~~~~~~~~

    डॉ भावना कुँअर, रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ और डॉ सरस्वती माथुर को सुंदर सृजन के लिए बधाई राखी की शुभकामनाएँ भी !
    यह स्नेह-सरिता यूँ ही बहती रहे भैया !

  2. ‘सजी कलाई’ , ‘धूलि है धन ‘ ,रिश्ता पावन ‘ बहुत सुन्दर ….राखी के पावन पर्व पर मधुर कोमल भावनाओं को प्रकट करते अनुपम हाइकु …आदरणीय भाई ‘हिमांशु’ जी , भावना जी एवं सरस्वती जी सहित समस्त हाइकु परिवार को को हार्दिक बधाई ,शुभ कामनाएँ !

  3. बहुत सुन्दर सृजन आप सबको राखी के पावन पर्व की शुभकामनाएं ।

  4. सभी गहराई लिए उत्कृष्ट हाइकु .
    पर्व की शुभकामनाओं के साथ .

  5. रक्षा बंधन को लेकर लिखे सभी हाइकु बहुत सामायिक एवं सुन्दर हैं मन को बहुत भाए। आप सभी बधाई के साथ शुभकामनाएं भी स्वीकार करें !

  6. राखी के बंधन को अनगिन कोमल भावनाओं में शब्दों में बांधा जा सकता है , यही आज इन सशक्त हाइकु को पढ़ कर अहसास हुआ| सभी रचना कारों को बधाई एवं शुभकामनाएं |

  7. सभी हाइकु इस पवित्र दिन को और खूबसूरत बना गए …… सभी को रक्षा बंधन की ढेरों शुभकामनाएं ….

  8. सभी हाइकु बहुत भावपूर्ण है सबको बधाई

  9. उत्कृष्ट हाइकु लेखन के लिए आप सभी को हार्दिक बधाई । ~ सौरभ चतुर्वेदी

  10. sunder srajan ke liye aap sabhi ko badhai dil se .

  11. कितने पावन और मनोरम हाइकु…आप सबको हार्दिक बधाई…|

  12. आप सभी को राखी के पावन अवसर पर लिखे भाई बहन के प्यार से भरपूर हाइकु की रचना के लिए हार्दिक बधाई |
    सविता अग्रवाल “सवि”


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: