Posted by: डॉ. हरदीप संधु | जुलाई 7, 2014

आकाश झाँके !


डॉ शैला सक्सेनाडॉ० शैलजा सक्सेना

1

मेघ घिरते

गिलहरी सी धूप

भागी , दुबकी !

2

ऊँची बिल्डिंगें

कटा-फटा रूमाल,

आकाश झाँके !

3

भाव क्लान्त

जूही , कनेरजैसे

जेठ यथार्थ !

4

दोस्ती खुशबू

हाथ पकड़े ,डोले

दूरियों में भी !

5

गद्य जीवन

कवितामय  तुम

समझूँ कैसे?

6

कड़ी सुरक्षा!

नफ़रत घूमती

चारों तरफ़ !

7

युग बदले

दुनिया भी बदली

आदमी वही !

8

शोर सैलाब

बहे हर आवाज़

सुनें- बोलें क्या?

9

नशे में डूबे

बच्चे खेतिहर के

धरती रोए !

10

पेड़ लटकी

लाश कोई और क्या

हम ही तो हैं !!

11

सूना आँगन

गौरैया ढूँढ़े दाना

कहाँ हैं लोग?

12

अभी भी टँगी

मेरी वो पहचान

तेरी आँखों में !

13

चिंता तुम्हारी

नींद उड़ाए मेरी

ये क्या हिसाब?

-0-

परिचय

नाम: शैलजा सक्सेना।

जन्म: मथुरा (उ.प्र.), भारत में।
शिक्षा:  एम. ए. तथा बी.ए.(ऑनर्स) में दिल्ली विश्वविद्यालय में सर्वोच्च स्थान, तथा ‘स्वर्ण पदक’, ‘सरस्वती पुरस्कार’ तथा ‘मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार’ की प्राप्ति, दिल्ली विश्वविद्यालय से पी-एच.डी. शोधकार्य ‘स्वातंत्र्योत्तर हिन्दी काव्य में युद्ध की भूमिका’ तथा एम.फिल. शोधकार्य

कामायनी की आलोचनाओं की समीक्षा
कार्यक्षेत्र: जानकीदेवी कॉलेज, (दिल्ली विश्वविद्यालय) में १९८९ से १९९८ तक अध्यापन।
प्रकाशित रचनाएँ: ‘सारिका’, ‘पांचजन्य’, ‘समाज कल्याण’, ‘तुलसी’, ‘वामा’ आदि अनेक पत्रिकाओं में कहानी, कविताएँ तथा लेख; अनुभूति, अभिव्यक्ति, साहित्य कुंज आदि वेब पत्रिकाओं में कहानियाँ, कविताएँ, और लेख प्रकाशित; ”अष्टाक्षर” नाम के संग्रह में अन्य सात कवियों के साथ आठ कविताओं का संकलन; टोरांटो के हिन्दी कवियों की कविताओं के संग्रह “काव्योत्पल” के संपादक मंडल में, अनेक पुस्तकों का परिचय और समीक्षा;’अंतिम अरण्य’-निर्मल वर्मा के उपन्यास की समीक्षा का चयन दिल्ली विश्वविद्यालय की ई-लर्निंग लायब्रेरी के लिए।
नाट्य निर्देशन: डॉ. धर्मवीर भारती का ‘अंधायुग’( २०१०), रामधारी सिंह दिनकर का ‘रश्मिरथी’(२०१२), कृष्णा सोबती का’मित्रो मरजानी’ (२०१३)- टोरांटो, कनाडा में।
सम्प्रति: २००१ से टोरोंटो, कनाडा में निवास। टोरोंटो की हिन्दी साहित्य सभा की भूतपूर्व उपाध्यक्ष; “हिन्दी राइटर्स गिल्ड” (टोरांटो) की संस्थापक निदेशिका।

सम्पर्क:shailjasaksena@gmail.com

Advertisements

Responses

  1. शैलजा जी हाइकु परिवार में आपका हार्दिक स्वागत ।

    दोस्ती खुशबू
    हाथ पकड़े ,डोले
    दूरियों में भी !

    कड़ी सुरक्षा!
    नफ़रत घूमती
    चारों तरफ़ !

    बहुत सुन्दर भावपूर्ण हाइकु……अनेक बधाई ।

  2. सभी हाइकु बहुत-बहुत सुन्दर भावमय चित्रण लिए हुए !

    ‘दोस्ती खुशबू
    हाथ पकड़े ,डोले
    दूरियों में भी !’ बहुत ही सुन्दर !!!

    ~सादर
    अनिता ललित

  3. हाइकु परिवार में आपका स्वागत है शैलजा जी 🙂
    ~अनिता ललित

  4. haiku parivaar mein apka swagat hai shailja ji….sabhi haiku manmohak…dosti khushboo….ati sunder badhai.

  5. प्रिय शैलजा ,हाइकु लिखने की शुरुवात करने पर बधाई |पेड़ पर लटकी ….बहुत ही अच्छा हाइकु लगा |बधाई |

  6. सुन्दर ,सामयिक ,भाव पूर्ण हाइकुओं के साथ उपस्थित शैलजा जी का बहुत बहुत अभिनन्दन !!
    दोस्ती ख़ुशबू , गद्य जीवन ,कड़ी सुरक्षा ,धरती रोए ,पेड़ लटकी …जीवन के विविध पहलू इंगित करते हाइकु ….अनुपम !! हार्दिक बधाई …शुभ कामनाएँ !!

  7. हाइकु परिवार में आपका स्वागत है शैलजा जी

  8. वाह्ह बहुत ही सुन्दर सार्थक ..सामयिक लेखन … परिवार में आपका स्वागत है .. शुभकामनाये 🙂

  9. सभी हाइकु अच्छे लगे।बधाई ।

  10. गद्य जीवन

    कवितामय तुम

    समझूँ कैसे?

    kya khoob likha hai, sabhi panktiyon ki jitni bhi prashansa ki jay kam hai. vah. badhaiyan.
    Dr. Kavita Bhatt
    HNBGarhwal University Srinagar Garhwal

    Uttarakhand India

  11. मेघ घिरते

    गिलहरी- सी धूप

    भागी , दुबकी |
    बहुत सुन्दर…| सभी हाइकु बहुत अच्छे हैं…बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: