Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | जून 4, 2014

गाता है मौन


डॉ अनीता कपूर

1

अपनी पीड़ा

बाँट न पाई कभी

मिला न कोई

2

मैं तुम बनी

तुम मैं बन जाते

कभी न हुआ

3

सूखा रेत- सा

दु:ख पहाड़ लगे

भ्रम क्यों पालें?

4

धुन रहा है

आसमान में कोई

मेघो की रुई

5

अकेलापन

स्मृतियाँ बिसूरती

सिसका मन ।

6

गाता है मौन

सन्नाटों भरे सुर

सुनो तो सही

 7

छोटा- सा तारा

अमावस्या की रात

बच्चे सा रोए ।

Advertisements

Responses

  1. बहुत सुन्दर ,गहन अर्थ लिए

  2. sabhi haiku bahut khoobsurat hai anita ji par …..dhun raha hai koie…..tatha….chota sa tara vishesh.hai ,anoothi kalpna liye…..bahut bahut badhai .

  3. बहुत खूबसूरत अर्थपूर्ण हाइकु…..बधाई अनीता जी !

  4. मैं तुम बनी
    तुम मैं बन जाते
    कभी न हुआ
    सुंदर हाइकु

  5. मैं तुम बनी
    तुम मैं बन जाते
    कभी न हुआ…………..सुन्दर अभिव्यक्ति !!
    सभी हाइकु गहन…सादर बधाई अनीता जी को !!

  6. अपनी पीड़ा
    बाँट न पाई कभी
    मिला न कोई

    मैं तुम बनी
    तुम मैं बन जाते
    कभी न हुआ
    मन के गहन भावों को हाइकु में कहना अाप से सीखे। बहुत बड़ी सच्‍चाई। आप को सदा
    लिखते रहने की शुभकामनाओं सहित ।

  7. अकेलेपन में लिपटे-सिमटे ….सभी हाइकु बहुत ही सुन्दर अनीता जी !

    ~सादर
    अनिता ललित

  8. छोटा- सा तारा
    अमावस्या की रात
    बच्चे सा रोए ।….

    एक अलग अनुभूति जगाते बहुत प्रभावी हाइकु ..
    हार्दिक बधाई अनीता जी !!

  9. मैं तुम बनी
    तुम मैं बन जाते
    कभी न हुआ … bahut sundar Anita ji …

    गाता है मौन
    सन्नाटों भरे सुर
    सुनो तो सही

    is se milti julti ek kshanika dekhiye jo kafi pahle likhi thi maine …

    यूँ तो

    ख़ामोश है रात

    पर सन्नाटे का भी

    अपना अलग राग है

    सुनो तो कान देकर –

    सुनाई देंगी

    रात की सिसकियाँ

  10. आप सभी ने हमारा उत्साह बढ़ाया …हृदय से आभारी हूँ। सादर

  11. बहुत सुन्दर हाइकु…बधाई…|

  12. अकेलापन
    स्मृतियाँ बिसूरती
    सिसका मन ।
    यह हाइकु हकीकत बयाँ कर रहा है , सभी विशेष लगे
    बधाई अनीता जी

  13. गाता है मौन
    सन्नाटों भरे सुर
    सुनो तो सही
    uf kitna akele hain shabd
    bahut khoob
    badhai
    rachana

  14. अनिता जी बहुत भावपूर्ण हाइकु लिखे है |हाइकु २, बहुत पसंद आया हार्दिक बधाई |

  15. Bahut khub!

  16. bahut hI mArmik haiku. bahinji badhAI.

  17. मैं तुम बनी
    तुम मैं बन जाते
    कभी न हुआ।

    अति सुंदर। सुंदर भाव और शिल्प के लिए बधाई अनिता जी !


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: