Posted by: डॉ. हरदीप संधु | मई 17, 2014

झरें दुआएँ


रामेश्वर काम्बोज हिमांशु

दुआएँ-काम्बोज1

सिर उठाएँ ,

जब  गर्म हवाएँ

झरें दुआएँ ।

2

फूलों की घाटी,

पग-तल की माटी-

बन मुस्काए ।

3

काया –छाया-सा

साथ रहेगा सदा

प्यारा हमारा ।

4

जो उलझनें

मिलीं बन चुनौती

सुलझें सभी  ।

5

दर्द तुम्हारा

‘ये अधर पी जाएँ’-

सदा मनाएँ ।

6

खुशियाँ  देना

हर धड़कन को

पूजा हमारी ।

7

तुम कौन हो ?

मैं हूँ कौन न जानूँ

एक  हैं  हम  ।

8

खुशियाँ  एक

एक ही  तो हमारे

सारे हैं गम ।

9

जंगल  घिरा

घोर छाया  अँधेरा

रौशनी बनो ।

10

आँखें दिखाए

घर-द्वारा आँगन

चलते चलो ।

11

बुझाते दिए

कुछ लोग  आसुरी,

जलाते  चलो ।

12

टूटें हो साज़

बिगड़ें  काज सब,

तो गाते चलो  ।

13

दुआएँ साथ

विरोधी हों मौसम

डरा न पाएँ  ।

14

शाप जो देते

वे कुछ  भी न पाते,

बाँटो दुआएँ ।

दुआएँ-21 5

तुम सुकून

जीने का हो जुनून

प्राणों में बसी

16

खुशबू भरी

हर बात तुम्हारी

फूलों की क्यारी  

-0-

Advertisements

Responses

  1. शाप जो देते
    वे कुछ भी न पाते,
    बाँटो दुआएँ ।
    bhaiya sahi kaha hai aapne kash ke log samjh jate
    badhai
    rachana

  2. हर हाइकु दिल का कोई न कोई तार संवेदना के स्तर पर झंकृत कर जाता है…| बहुत मनभावन और सुन्दर हाइकु…हार्दिक बधाई…|

  3. waahh har ek haiku umda sarthak ..
    सिर उठाएँ ,

    जब गर्म हवाएँ

    झरें दुआएँ ।
    sadar naman

  4. Excellent effort here on haiku. Keep posting.

  5. प्रत्येक हाइकु बहुत सुन्दर !

    शाप जो देते
    वे कुछ भी न पाते,
    बाँटो दुआएँ ।………..अति प्रशंसनीय हाइकु ….बधाई !

  6. bhAIsAhab
    sabhI umdA haiku
    dete sukUn.

    badhAI. vinamr pranAm.

  7. हर धड़कन को खुशियाँ बाँटने की कामना करते सभी हाइकु बहुत सुन्दर ,मधुर हैं …सत्यं ,शिवम् सुन्दरम की भावना से परिपूर्ण ….ईश्वर की सच्ची आराधना हैं …हार्दिक बधाई भैया जी …सादर नमन !!

  8. सभी प्रेरणादायक उत्कृष्ट हाइकु .
    हार्दिक बधाई

  9. sabhi haiku duaon ki shakti aur duaon men vishvas liye aage badhate jane ki prerna de rahe hain .man ki shakti jeevan ko sambal deti hain Bhai ji apako badhai .
    pushpa mehra.

  10. अतिसुन्दर हाइकु भैया जी !

    दुआएँ साथ
    विरोधी हों मौसम
    डरा न पाएँ — बिलकुल सही !

    शाप जो देते
    वे कुछ भी न पाते,
    बाँटो दुआएँ – कितनी सुन्दर बात !

    बिलकुल यूँ लग रहा है जैसे ….

    ‘तेरे दर से
    दुआएँ ही दुआएँ
    समेटे चले !’ ~ 🙂

    आपको नमन भैया जी, आपकी लेखनी को नमन।

    ~सादर
    अनिता ललित

  11. शाप जो देते
    वे कुछ भी न पाते,
    बाँटो दुआएँ ।
    खुशबू भरी
    हर बात तुम्हारी
    फूलों की क्यारी ।
    Bahut gahan,apnatav se bhari anubhuti dete haiku ,bahut-bahut badhai…

  12. “बुझाते दिए
    कुछ लोग आसुरी,
    जलाते चलो ।”
    बहुत ही संदेशात्मक ,भावनात्मक और सकारात्मक हाइकु ….बहुत बहुत बधाई हिमांशु भाई !

  13. ma shaarda se aashirvadit haiku……sacche sadhak se ma anandit hoti hai aur upajte hai aise bhaav…..saadar pranaam ke saath ..badhaiya bhaiji

  14. सभी हाइकु भावपूर्ण होने के साथ ही संदेशप्रद भी है…

    बुझाते दिए
    कुछ लोग आसुरी,
    जलाते चलो ।

    टूटें हो साज़
    बिगड़ें काज सब,
    तो गाते चलो ।

    हार्दिक बधाई.


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: