Posted by: डॉ. हरदीप संधु | अप्रैल 30, 2014

निर्मल सर्ग:


1-डॉ आनन्द जोशी

1

देय् व्यस्त युद्धय्

ब्वाँय् ज्ल ट्यांक बुँइ

भ्रुणया हत्या ।

2

स्वतन्त्रता: लँ

द्वहन्त लँय् दत्थुइ

आज्जु संकटय् ।

3

चा मुन तालय्

कय्कुना वन लागा

ह्यूपा: हे पंग: ।

-0-

2-रिता  महर्जन

1

अहो ! लुमन्ति

थुकिं बीगु घा: या स्या:

गुलि न्ह्यैपु थ्व ।

2

छझा” याक: चा

कँ ह्वेका: च्वने द: सा

अरु गुलि ज्यू ।

3

निर्मल सर्ग:

स्वच्छन्द थ्व लकस

याउँसे नुग: ।

-0-

( नेवा: हाइकु  द्वैमासिक , सम्पादक ; इन्द्र माली  अंक : 12 से साभार)

Advertisements

Responses

  1. तसकं लसताया खँ , थ्व साइतय् ब्वने दया । सुभाय् दु ।

  2. rsmsuman yaat aapal subhay. jhigu kamjori suit chwachay mal ki sina wana the taigu. chi thugu sankiran pakha hacha gaya dil aapal shubhay.

    Nepal ke Haiku first time prakashit karke aap logo ne jo sahas dikhaya eske liye dono sampadak ka prasansa karta hu
    indra

  3. यह हमारा कर्त्तव्य है इन्द्र माली जी । आप नेपाली और हिन्दी के लिए नोवा: हाइकु जैसी पत्रिका निकालकर दो देशों को और मज़बूती से जोड़ने का काम कर रहे हैं। नेपाली हाइकु का हिन्दी हाइकु के भाषान्तर में सदा स्वागत है ।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: