Posted by: डॉ. हरदीप संधु | मार्च 6, 2014

मैं भी अटल


1-डॉ. ज्योत्स्ना शर्मा

1

अरी आँधियो !

अडिग अचल हैं

इरादे मेरे ।

2

सत्य के पथ

झुकें  या टूटें कभी,

सीखा ही नहीं

3

नियति चले

सदा चाल अपनी

मैं भी अटल ।

4

रवि मुस्काया

डूबा कल ,क्या हुआ ?

मैं लौट आया ।

5

हैं अनमोल

जीवन का अमृत

ये मीठे बोल !!!

-0-

2-अनिता  ललित 

1

हैं चुनौतियाँ

हिम्मत न हारना

जीतेगा सच

2

राह अँधेरी

हिम्मत न हारना

ज्योति जलाना।

3

राह कँटीली

हिम्मत न हारना

फूल खिलाना।

4

कहती चींटी

हिम्मत न हारना

चलते रहो ।

-0-

3-रेखा जोशी

1

राहें कठिन

फैलाओ तुम पंख

लम्बी उड़ान ।

2

नही हारना

मन में है  विश्वास

बैठ न जाना   ।

 -0-

4-रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

1

नाम लिखूँगा

अम्बर के माथे  पे

ये वादा रहा ।

2

मिटना है क्या?

सिर्फ़ नई सर्जना

फ़सलें उगीं।

3

शोला हूँ मैं

जलूँ ,उजाला करूँ

हिम्मत भरूँ ।

4

चिंगारी हैं वे,

घर जलाते रहे

खुद भी जले ।

5

शाम भी मेरी

भोर मेरी ही हँसी

तुम भी हँसो ।

-0-

5- ज्योत्स्ना प्रदीप

1

नारी जैसा है

जड़ का भी जीवन

वृक्ष सँभाले !

2

कूदी नभ से

अस्तित्व की खोज मे

बूँद ओस की !

 

3

अता न पता

चली नभ को लता

सहारे  बिना!

-0-

Advertisements

Responses

  1. आदरणीय हिमांशु भैया जी, ज्योत्स्ना शर्मा जी, रेखा जोशी जी, ज्योत्स्ना प्रदीप जी आप सभी के हाइकु बहुत-बहुत सुन्दर हैं! भाव तो ऊँचा है ही…. अभिव्यक्ति बहुत ख़ूबसूरत एवं सहज है !
    इन हौसलों की उड़ान को खुला आकाश मिले इसी शुभकामना के साथ …

    ~सादर
    अनिता ललित

  2. सभी हाइकू बहुत अच्छे है

  3. प्रेरणादायक हाइकु एवं प्रस्तुति के लिए सभी सम्माननीय रचनाकारों को कोटिशः बधाई!!

  4. बहुत बधाई ..अनिता ललित जी , ज्योत्स्ना प्रदीप जी , काम्बोज भैया जी एवं रेखा जोशी जी …हिम्मत से भरे आपके हाइकु और आपका साथ माँ शारदे का वरदान है …नमन !

  5. himanshu ji ,jyotsna ji ,anita ji ,rekha ji….prernadayak haiku likhne ke liye bahut bahut badhai

  6. anita lalit ji,rekha ji,jyotsna pradeep ji va himanshu bhai ji ke nari – shakti ko
    jagane vale sabhi haiku uttam koti ke hain. nari to vo lata hai jo badhne aur upar chadhane ka apana rasta khojati hui roshani ki or badhati jati hai.
    ap sabhi ko .badhai.
    pushpa mehra.

  7. शाम भी मेरी
    भोर मेरी ही हँसी
    तुम भी हँसो ।

    un logon ko jo apne jeevan ki ghutan men hi ghutate rahte hain eak jadi buti hai…bahut bahut badhai…

  8. नाम लिखूँगा अम्बर के माथे पे ये वादा रहा । ………… वाह सभीहाइकु बहुत सुन्दर
    भाईसाहब और सभी रचनाकारो को उम्दा हाइकु हेतु बधाई

    2014-03-06 0:00 GMT+05:30 “हिन्दी हाइकु(HINDI HAIKU)-‘हाइकु कविताओं की वेब

  9. हिम्मत बंधाते…उत्साहवर्धक, सार्थक और सुन्दर हाइकु के लिए आप सभी को बधाई और आभार…|

  10. “NAM LIKHUNGA /
    AMBAR KE MATHE PE /
    YE VADA RAHA.”

    SABHI HAIKU MAN BHAYE,
    AAP SABKO BADHAI.


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: