Posted by: डॉ. हरदीप संधु | जनवरी 3, 2014

फूल की हँसी


डॉ. लाज मेहता

1

पराई आस

नदी की धारा जैसी

फिसल जाए ।

2

अपना कोई

तलाशती ज़िन्दगी

दोराहे पर ।

3

चिर अँधेरा

विरह-पथ पर

मिलन मेरा ।

4

फूली सरसों

बगराया बौराया

आया बसन्त ।

5

ताड़ के वृक्ष

सीमा पर पंक्ति में

प्रहरी जैसे ।

6

फूल की हँसी

तूफ़ानी हवाओं से

काफ़ूर हुई ।

7

रोटी का ग्रास

गरीब की आँखों  में

जगाए आस ।

8

तन कोमल

मन सह लेता

कुलिश-भार ।

9

भटका मन

अमाअवसी जीवन

भरो प्रकाश ।

10

दुनिया फ़ानी

जीवन है बेमानी

सत्य कहानी ।

-0-

जन्म : 1924  मुल्तान( अब पाकिस्तान में)

-0-

Advertisements

Responses

  1. पराई आस
    नदी की धारा जैसी
    फिसल जाए

    Sundar ! ekdam sahi …

  2. बढ़िया हाइकु….बधाई !

  3. सभी हाइकु बहुत सुन्दर। आपकी संवेदनाओं को प्रणाम।
    डॉ लाज मेहता जी, नव वर्ष की मंगलकामनाओं के साथ हार्दिक बधाई !

  4. विविध भावों से परिपूर्ण बहुत सुन्दर हाइकु …बहुत बधाई …सादर नमन !

  5. ati sundar haikuz ..nav varsh ki haardik shubhkanaye .sadar naman

  6. सुन्दर हाइकु…

    दुनिया फ़ानी
    जीवन है बेमानी
    सत्य कहानी ।

    बधाई.

  7. चिर अंधेरा
    विरह मेरा
    चिर मिलन । यह हाइकु मुझे अधिक भाया । अंधेरा जीवन का प़तीक है , और विरह में मिलन की आशा बनी रहती है । अन्य हाइकु भी रोचक हैं ।

  8. SUNDER HAIKU …NAV VARSH SHUBH HO

  9. अपना कोई
    तलाशती ज़िन्दगी
    दोराहे पर ।

    सभी हाइकु भावपूर्ण ।हार्दिक बधाई ।

  10. पराई आस
    नदी की धारा जैसी
    फिसल जाए ।

    अपना कोई
    तलाशती ज़िन्दगी
    दोराहे पर ।

    बहुत सुन्दर और सार्थक हाइकु…बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: