Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | दिसम्बर 21, 2013

मिली ना डाली ।


कमलेश चौरसिया

1

तिनका लिये

चिड़िया थक गई

मिली ना डाली ।

2

ठिठक सुनें

गूँज रही ऋचाएँ

सुख पा जाएँ ।

3

दूब में उगी

मोतियों की लड़ियाँ

मृग तृष्णा सी ।

4

कली बेटियाँ

बहू गुलाब फूल

दुलारो इन्हें ।

 5

धूप टुकड़ा

नैनो में सींच लिया

अंकुर फूटा ।

       -0-

Advertisements

Responses

  1. धूप टुकड़ा
    नैनो में सींच लिया
    अंकुर फूटा ।
    बहुत सुन्दर…बधाई…|

  2. सन्देश देते उत्कृष्ट हाइकु

  3. utkrisht bhaw uttam haiku

  4. कली बेटियाँ
    बहू गुलाब फूल
    दुलारो इन्हें। -बहुत सुन्दर।
    सभी हाइकु बहुत सुन्दर ! बधाई कमलेश चौरसिया जी।

    ~सादर
    अनिता ललित

  5. sabhi haiku utkrisht

  6. कली बेटियाँ
    बहू गुलाब फूल
    दुलारो इन्हें …. bahut sundar sandesh … ye nayi paribhasha bahut hi achchhi lagi, varna log sirf betiyon ke baare me baat karte hain aur bahu ko bhool jate hain jo parivar ka abhinna ang hai …


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: