Posted by: डॉ. हरदीप संधु | नवम्बर 3, 2013

दीपोत्सव-3


दीपावली

1-सुदर्शन रत्नाकर

1

सजी रंगोली

सात रंगों वाली

आई दिवाली ।

2

आओ जलाएँ

नफ़रत मिटाएँ

दीप प्यार के ।

 2-33

दीप से दीप

जलते हैं अनंत

हों जब संग ।

4

दीप जलाओ

मिट जाए तिमिर

अज्ञानता का ।

5

चाँद रूठा है

आओ मनाने चलें

दीप जला के ।

6

भाई का माथा

कुमकुम का टीका

चाँद भी फीका ।

-0-

2-मुमताज टी खान

1

 नन्ह -सा दीप

ले गोद में ज्योत को

दिखाए प्रीत।

2

खुशी के पल

फ़िज़ा में जाएँ  भर

इस दिवाली ।

3

आँच दु:खों की

भटके न पास भी

दुआ हमारी ।

-0-

3-पुष्पा मेहरा   

1

 आई दिवाली

 अतिथि न समझो

 सदा मनाओ।

2

 मन में बसे

 प्यार और विश्वास

 दीप हो साथ ।

3

 खड़ी है रात

 फैला काली-कमली

 रोशन धरा ।

4

 मिल-जुल के

 फुलझड़ी से झरें

 बाँटें खुशियाँ ।

5

 आओ तो सखि!

 द्वार दीपक बालें

 तमस हरें ।

  -0-

4-ऋता शेखर  ‘मधु’

1

दीये ये कच्चे

धुन के बड़े पक्के

बच्चों -से सच्चे |

2

नेह का दीप

घृत हो विश्वास का

अखंड जला|

3

चाक जो घूमा

सर्जक का सृजन

सुगढ़ दीप |

4

मिलके रहे

दीप तेल वर्तिका

तभी लौ बने |

5

चंदा को ढूँढ़े

दीपक की बारात

अमा की रात |

6

गौरवशाली

दीवाली में भारत

सौरभशाली |

-0-

5-डॉ सरस्वती माथुर

1

भीगी वर्तिका

दीप का तेल सोख

तम को  पीती l

2

माटी के दीप

बाँधकर तम को

रोशनी देते l

3

समाहित हो 

वर्तिका  दीपक में

उजास देती     

4

नेह दीप से

हटाना होगा अब

मन का तम l  

2-45

अँधेरी  रात

झिलमिल लगती

दीप ज्योत से l

6

देहरी द्धार 

चमकीले तारों सी

दीप– रंगोली 

7

लक्ष्मी आए तो 

आँगन  का दीपक 

पूर्णिमा  हो जाए  l 

8

रसपगा -सा

दीपावली पर्व है

तम  भगाए !

9

कार्तिक दीप

उजास लुटा कर

 आस्था जगाए l 

-0-

Advertisements

Responses

  1. दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ…हिन्दी हाइकु परिवार प्रखर हाइकु दीपों से सदा जगमग रहे…

  2. umda haiku ..deepotasav ka prakash bikherte ..sath hi bhayiduj ki garima ka bhi vyan karte ..sabhi ko dipotsav ki haardik shubhkamnye 🙂

  3. दीपपर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !
    हम सभी के मन की दीप शिखाएँ हाइकु परिवार में यूं ही जगमगाती रहें और एक दूसरे को समीप लाती रहें!
    इसी अविरल शुभकामना के साथ कहना चाहूंगी –
    हर दीप हैं आप- हिमांशु भैया के संग हाइकु संसार को उदीप्त कर रहीं—- स्नेह ज्योत से हम सभी के मन में प्रेम का तेल भर उजास कर रहीं !
    बहुत बहुत आभार
    बना रहेगा
    हम सब का
    स्नेहसिक्त बाती से
    उजियारा करता
    असीम स्नेह और प्यार !
    डॉ सरस्वती माथुर

  4. sabhi ke haiku rangbirange , pure parivar ko aur rachnakaro ko dipawali ki hardik shubhkamnayen

  5. बहुत सुन्दर …दीप्त हाइकु ..बहुत शुभ कामनाएँ सभी को !!

  6. उजियारा लाते हाइकू के लिए सभी को बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: