Posted by: हरदीप कौर संधु | सितम्बर 21, 2013

बौराय मन(अनुवादिका का परिचय और मन के द्वार हज़ार के चुने हुए हाइकु)


3-rachanaa Dwar Hazar2-cover-l Man Ke Dwar Hazar

Advertisements

Responses

  1. bahut umda haiku hai , rachna ji aapko hardik shubhkamnaye aur sabhi rachnakaro ko umda haiku ke liye hardik badhai

  2. आँचलिक भाषा की मिठास में पगे सुन्दर हाइकु । रचना जी को बधाई !

  3. बढ़िया हाइकु! बढ़िया अनुवाद!
    हार्दिक बधाई सभी रचनाकारों को!
    रचना जी… बहुत सराहनीय कार्य! बहुत-बहुत बधाई व शुभकामनाएँ आपको!:)

    ~सादर!!!

  4. रचना जी ढेरों बधाई आपको …मन मोह लिया सभी हाइकु के शब्दों की मिठास ने !

  5. bahut hi sundar .. prardeshik bhasha me rachit ye haikuz mithas liye huye hai … rachna ji ko evem rachna karo ko haardik badhayi

  6. बहुत सुन्दर मधुर भावानुवाद ……रचना जी !
    हार्दिक बधाई …शुभ कामनाएँ …उपलब्धियों के सितारे आपके जीवन में ऐसे ही जगमगाएँ !!

  7. बहुत सरस अनुवाद!
    रचना जी बहुत-बहुत बधाई!

  8. सार्थक प्रयास अनुवाद के लिए

    हाइकुकारों को बधाई .

  9. बहुत सुन्दर भावानुवाद ……रचना जी !
    हार्दिक बधाई …शुभ कामनाएँ

  10. बहुत सुन्दर और मधुर हाइकु, बधाई रचनाजी.

  11. बहुत ही सुन्दर अनुवाद किया है रचना जी ने…सारे हाइकू की सरसता उसी तरह बरकरार है…|
    बहुत बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: