Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | अगस्त 24, 2013

सलोनी साँझ


1-मीनाक्षी धन्वन्तरि

1

मेघ स्लेटी ये
घुलता न्यारा रंग
सलोनी साँझ  ।
2
स्याह है अर्श
सहमी -डरी धरा
निडर बूँदें  ।
3
स्याह -सा फ़र्श
बूँदें मस्त थिरके
भीगती राहें ।

-0-

2-शैफाली गुप्ता

1

जीवन प्रश्न

पूछता हर कोई

जवाब कहाँ ?

2

जीवन अर्थ

कर्त्तव्य व कर्म ही

मन की शक्ति ।

3

मन का पंछी

बैठे कौन-सी डाल

ये तो  बंजारा ।

4

सागर-वेग

जीवन-कोलाहल

मन-मंथन

-0-


Responses

  1. सभी हाइकु बेहतरीन व मनभावन हैं। मीनाक्षी धन्वन्तरि जी व शैफाली गुप्ता जी हार्दिक बधाई !

  2. वाकई लेखनी मथ गई .

    सुंदर हाइकु के लिए बधाई .

  3. वर्षा की साँझ के सुन्दर बिम्ब …मन मंथन …बहुत सुन्दर !!

    हार्दिक बधाई !!

  4. सभी हाइकु बहुत भावपूर्ण, बहुत अच्छे लगे…
    हार्दिक बधाई… मीनाक्षी जी, शैफाली जी !
    ~सादर!!!

  5. syah hai arsh, sahami dari dhar, nidar buunden
    jeevan prashan , puuchata har koi, jawab kahan
    meeenakashi ji aur shefali ji, aap ke haiku samay ke dharatal par khade hain. badhai
    pushpa mehra

  6. सभी हाइकू बहुत अच्छे हैं…आप दोनों को बधाई…|


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: