Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | मार्च 21, 2013

मौसम में रंग भरे


 

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला  

 1

अरुणिमा की

लालिमा- सी शर्माई

नवयौवना।

प्युन्ली फ्यूंली download 2

बसंती प्युंली*

लाल बुरांस* खिले

पहाड़ सजा।

 3

पीत पुष्प पे

श्याम भ्रमर डोले   

तितली हँसी।

 4

लाल गुलाल

पीला वसन धारे

श्याम सखा रे ।

 5

श्वेत घन में

चाँदी -सी दामिनी

हरा सावन ।

 6

टेसू हैं लाल   

श्याम कुक्कू वाचाल

कुहुक गाएँ ।

 7

नीला सागर

नभ लाया गागर

नीलिमा छाई।

8

धूसर वेश

सतरंगी ख्वाबों में 

बना स्वर्ण

9

बुरांशमहके जग 

लाल गुलाब सम

मन हो खिला। 

-0-

*प्युन्ली/ फ्यूंली का यह फूल पहाड़ों में बसंत का आगमन है, जब पहाड़ों में ये खिल खिल कर लहलहाने लगते हैं … कहा जाता है कि शंकर जी की भूतों वाली बरात और जटाधारी भभूत में लिपटा रूप देख कर गौरा देवी देवी डर गयी, और जब गौरा देवी की माँ ने भी देखा तो उदास हो गयी कि मेरी इतनी प्यार से पाली कोमल और रूपवती गौरा के लिए क्या यही वर बाकि था जो भाँग- भँगोडी है , जिसके गले में सर्पों की माला है… फिर उन्होंने गौरा को कहा कि जा बेटी , तू अपना रूप कहीं छुपा दे, और गौरा ने जाकर अपना रूप इस प्युन्ली / फ्युली के फूल में रख दिया .. तब से बसंतपंचमी में यह प्युन्ली पहाड़ के ढलानों में खिल उठते हैं …..पहाड़ के लोक गीतों में इस फूल का वर्णन जहाँ- तहाँ मिलता है… बाद में शंकर जी के भव्य, सुन्दर, सुकुमार , कल्याणकारी रूप को देख कर शंकर गौरा का विवाह हो गया था …… 

यह पहाड़ों का फूल है .. बुरांस और प्युन्ली पहाड की पहचान है…

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला  


Responses

  1. bahut sundar jaankaaree ke saath mahakte haaiiku …badhaaii aapko !!

  2. बहुत खूबसूरत हाइकु…बधाई।

  3. पीत पुष्प पे

    श्याम भ्रमर डोले

    तितली हँसी।

    Bahut khub! itani achchhi jaankari ke liye aabhaar…sabhi haiku acchhe lage..bahut2 badhai…

  4. बहुत सुन्दर हाइकू…और इस जानकारी के लिए आभार…|

  5. sabhi haiku behad sundar , gyanvardhak jaankari ke liye abhaar nutan ji

  6. सभी हाइकु और जानकारी बेहद उम्दा लगी , आपसे एक जिज्ञासा शांत करनी थी , यह
    शब्द जो खास तौर पर दर्शाए गए है उसका क्या तात्पर्य है …… क्या खास
    सन्देश लिए हुए निहित है …? मार्गदर्शन करें
    बहन शशि

  7. बहुत खूबसूरत हाइकु !

  8. शशि बहन आप द्वारा पूछी गई जानकारी हाइकु के नीचे फुटनोट में पहले से ही दी हुई है।

  9. इन्द्रधनुषी रंगों में रंगे हाइकु मन को रंग गए .
    बधाई

  10. बहुत खूबसूरत हाइकु….
    विवरण पढ़कर और भी रोचक और अच्छे लगे….
    ~सादर!!!

  11. मित्रों को और साहित्य प्रेमियों को मेरा हार्दिक धन्यवाद … मुझे अति प्रसन्नता है कि आप को प्युन्ली के फूल पर जानकारी अच्छी लगी और मेरे हाइकू भी पसंद आये… सादर -नूतन डिमरी गैरोला


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: