Posted by: हरदीप कौर संधु | अक्टूबर 31, 2012

हैलोविन


पश्चिमी देशों में प्राचीन समय से हैलोविन त्योहार के समय पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए ये दिन मनाया जाता है । लोगों का मानना है कि अगर  आत्माएँ नाराज़ हो जाएँ तो बहुत नुकसान होता है । 31 अक्तूबर को बच्चे भूत – प्रेतों के मुखौटे लगाकर घर- घर माँगने जाते हैं । लोग इस दिन दान करना शुभ मानते हैं ।

1.

लगा मुखौटे 

यूँ बच्चों की टोलियाँ 

माँगने आईं  ।
2.

ट्रीट टाफियाँ 

हैलोविन की शाम 

बच्चे चाहते 
3.

धुँधली शाम 

गली मुहल्ले होता 

भूतों का नाच ।

 

डॉ हरदीप कौर सन्धु

 

 


Responses

  1. जिस तरह से आप लोग देश विदेश के तीज त्योहारों से हिंदी हाइकु को जोड़ रहे , वह बहुत प्रशंसनीय है…। आभार व बधाई…।

  2. “धुँधली शाम

    गली मुहल्ले होता
    भूतों का नाच ।”

    हैलोविन पर सुंदर हाइकू हरदीपजी के बधाई …डॉ सरस्वती माथुर


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: