Posted by: रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' | सितम्बर 21, 2011

भागता रहा सुख(ताँका)


1

सालता रहा

सदियों तक दुख

परछाई-सा

होकर फिर दूर

भागता रहा सुख ।

2

वे देते  गए

हर पग ठोकर

पगडंडी -सी 

मूक सहती  गई

मैं खुद को  खोकर ।

3

मिलती रही

पग-पग ठोकर  

जिंदा भी रही

गम का खारा जल

घूँट-घूँट पीकर।

 -डॉ भावना  कुँअर


Responses

  1. वे देते गए
    हर पग ठोकर
    पगडंडी -सी
    मूक सहती गई
    मैं खुद को खोकर ।
    dard me dube bhav mahak rahe hain .darad na jane kyu mujhe bahut

    bahlata hai
    rachana

    bahlata hai

  2. मिलती रही
    पग-पग ठोकर
    जिंदा भी रही
    गम का खारा जल
    घूँट-घूँट पीकर।
    bhav acche se ubhar kar aaye hain
    teeno taanka bhut sunder hain…badhaai

  3. डा. भावना जी ,
    तीनो तांका बहुत खूब… बहुत उम्दा है…. अपने भाव के साथ बहुत सार्थक है …बहुत -बहुत बधाई …..

  4. भावना जी तीनो तांका बहुत सुंदर हैं एक से बढकर एक. दर्द जैसे बोल रहा हो. बधाई
    सादर
    अमिता कौंडल

  5. teeno taanka behad bhaapurn hai. jivan ka satya jise sahan karna hin hota hai…
    सालता रहा
    सदियों तक दुख
    परछाई-सा
    होकर फिर दूर
    भागता रहा सुख ।
    Bhawna ji ko bahut badhai.

  6. Aabhar ….

  7. तांका विधा का आपने बड़ा ही अच्छी तरफ उपयोग किया हे अपने भाव हम तक पहुंचाने के लिये.

  8. सुंदर रचना…

  9. वे देते गए
    हर पग ठोकर
    पगडंडी -सी
    मूक सहती गई
    मैं खुद को खोकर ।

    यह प्रेम की पराकाष्ठा होती है..। बड़ी खूबसूरती से शब्दों में बाँधा है, मेरी बधाई…।

  10. आद. हिमांशु जी ,
    ये मेरे लिए नई विधा है ….
    परिचित नहीं हूँ इससे ….
    हाइकु और क्षणिकाओं से मिलते जुलते ….

  11. बहन हरकीरत’हीर’ जी , ताँका में 5+7+5+7+7=31वर्ण होते हैं-जैसे:-
    वे देते गए=5
    हर पग ठोकर=7
    पगडंडी -सी=5
    मूक सहती गई=7
    मैं खुद को खोकर =7
    क्षणिका में न वर्ण का बन्धन है, न पंक्तियों का । आप जैसे सहृदय और मँजे हुए रचनाकार के लिए यह सरल विधा है, जिसमें कम से कम शब्दों में बड़ी बात कही जा सकती है ।हम इन्तज़र करेंगे की एक दिन आप रचनाएँ भेजे । इसके लिए हमने आज ही नया ब्लाग http://trivenni.blogspot.com/ त्रिवेणी शुरु किया है ।ब्लाग के नाम के नीचे हाइगा, ताँका और चोका के लिंक दिए गए हैं , जिसमें विधागत परिचय भी दिया हुआ है।

  12. excellent


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

श्रेणी

%d bloggers like this: