Posted by: हरदीप कौर संधु | जुलाई 29, 2011

चंदनमन हाइकु संग्रह से साभार


This slideshow requires JavaScript.

Advertisements

Responses

  1. naye ranon me nahaye haiku apni anupam chhata bikher rahe hain
    bahut bahut badhai
    saader
    rachana

  2. Amazing !!
    Kareegaree ki sunderta shabdon mein ujala bhar rahi hai
    shat shat Badhayi Rameshwar ji aur Hardeep ji ko in prayason ko sajeev karne ke liye
    Devi Nangrani

  3. All Haiga’s are beautiful and
    have fragrance like sandalwood

  4. naya savera aur sham darsate sabhi haiga bahut
    sunder hain..
    badhai

    sadar

  5. bahut khoobsoorat…ek baar phir se inka anand dene ke liye aabhaar…

  6. सुन्दर हाइकुओं का सुन्दर चित्रों के संग अतिसुन्दर समायोजन…बधाई !

  7. Bahut sundar sajaya hai aapne chitron sahit aabhar..

  8. bahut umda chitramay prastuti. sabhi ko bahut badhai.

  9. धूप नहाया
    कड़क दोपहर
    सूर्य अकेला।

    पूर्णिमा जी का यह हाइकु बहुत सुंदर है} अपने आप में संपूर्ण।

  10. मानोशी जी यह हाइगा है । आधार इसका हाइकु ही होता है , लेकिन चित्रमय प्रस्तुति के कारण हाइगा कहलाता है । इसी स्लाइड शो में और कवियों के भी हाइगा हैं , आपको अगर पढ़ेंगी तो शायद वे भी आपको पसन्द आए ।यह इसलिए कह रहे हैं कि आपने उनमें से किसी पर भी अपनी राय नहीं दी है ।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: