Posted by: डॉ. हरदीप संधु | सितम्बर 15, 2010

चाटी की लस्सी


चाटी की लस्सी*

गाँव जाकर माँगी

अम्मा हँसती

हरदीप संधु

*अधिक जानकारी के लिए ‘शब्दों का उजाला’ पर क्लिक कीजिएगा…..

http://shabdonkaujala.blogspot.com

Advertisements

Responses

  1. माँ तो हँसेगी ही , क्योंकि गाँव से छोटे शहरों में जाने पर भी लोगों के नखरे बढ़ जाते हैं । बेटी तो व विदेश में रहने और घूमने पर भी नहीं बदली । यही तो वह खुशबू है जो बाहर जाने पर बचाकर रखनी पड़ती है । अगर यह बची रहती है तो आदमी की आदमियत बची रहती है ।


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: