Posted by: डॉ. हरदीप संधु | जुलाई 4, 2010

हाइकु क्या है ?


जापानी भाषा में वर्षों पहले एक छोटी कविता लिखने का

आगाज़ हुआ….जिसे हम हाइकु कहते हैं । इस में 17 वर्ण होते हैं ।

इस कविता को तीन पंक्तियों में लिखा जाता है ….5 + 7+- 5 करके । हर भाषा इसे अपने ही

रंग में रँग रही है । हिन्दी में भी हाइकु लिखा जा रहा है ।

जापान में जो हाइकु नहीं लिखता, उसे कवि नहीं माना

जाता । हाइकु को दुनिया की सब से छोटी कविता माना

जाता है ।

हाइकु में कोई चमत्कार नहीं होता । बस यही समझने की

बात है । हम उस चीज़ को ज्यादा दिलचस्पी से देखते हैं ,जो

चमत्कारी होती है या जिसकी हमें ज़रूरत होती है । लगता

है हमारी दृष्टि में कोई कमी है । हम बहुत कम देखते हैं ।

हाइकु हमें दूरदृष्टि देता है ।

हरदीप संधु

Advertisements

Responses

  1. हाइकु वर्तमान की कविता है….
    वो ‘पल’ जो अब बीत रहा है….
    हाइकु उस ‘पल’ को पकड़ कर हमें दिखाता है ।

  2. बहुत बढ़िया….
    आभार…


रचनाओं से सम्बन्धित आपकी सार्थक टिप्पणियों का स्वागत है । ब्लॉग के विषय में कोई जानकारी या सूचना देने या प्राप्त करने के लिए टिप्पणी के स्थान पर पोस्ट न करके इनमें से किसी भी पते पर मेल कर सकते हैं- hindihaiku@ gmail.com अथवा rdkamboj49@gmail.com.

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

श्रेणी

%d bloggers like this: